सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार

जिला जिसे अब मौत की नगरी कहा जाने लगा है,  आये दिन किसी न किसी बेगुनाह के खून से यहां की सड़कें लाल होती रहती है, एक बार फिर बेलगाम तेज रफ्तार की ट्रेलर ने एक घर का चिराग बुझा दिया है। बता दें कि सिंगरौली जिले के गोरबी चौकी अंतर्गत महदईया में ट्रेलर चालक ने मोटरसाइकिल सवार राजेन्द्र शाह पिता रामकेवल शाह निवासी रमपुरवा थाना बरगवां जो कि किसी काम से गोरबी की तरफ जा रहा था उसे ठोकर मार दी। बेलगाम तेज रफ्तार की ट्रेलर MP 66 H 1807 ने मोटरसाइकिल सवार को ठोकर मारदी जिससे बाइक सवार की घटना स्थल पर मौत हो गई,घटना के बाद जनता में भारी आक्रोश दिखाई दिया वही पुलिस प्रशासन मौके पर पहुंच जनता को समझाइस देते हुए हालात पर काबू पाया।

एम पी ब्रेकिंग न्यूज ने लगातार सिंगरौली जिले में आये दिन बेगुनाहों के खून से लाल हो रही खबरों पर आवाज उठाई है कि आखिर कब तक बेगुनाहों को सिंगरौली की खूनी सड़को पर ट्रेलर हाइवा से कीड़े मकोड़े की तरफ रौंदा जायेगा। वही हालही में हमने यातायात पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया था, क्योंकि यातायात पुलिस जो कि अपने माजन मोड़ कार्यालय के बाहर रोजना चेकिंग लगाकर आम जनता और छोटे वाहन चालकों को परेशान कर वसूली तो करते हैं। लेकिन अगर बात बेलगाम तेज रफ्तार में चलने वाले ट्रेलर,हाइवा और ट्रक की चेकिंग करने की हो तो यातायात पुलिस के पसीने छूटने लगते है।

वही सूत्रों के मुताबिक बड़ी गाड़ियों का महीने का चढ़ोत्तरी बंधा रहता है जिसके कारण यातायात पुलिस बेगुनाहों को सड़क पर अपने टायरों के नीचे कुचलने वाले ट्रेलर,हाइवा और ट्रक पर कार्रवाई नही करना चाहती। अभी हालही में माजन मोड़ चौराहे पर यातायात पुलिस की वसूली का वीडियो वायरल हुआ था, जिसे एम पी ब्रेकिंग न्यूज ने प्रमुखता से दिखाया था जिसके बाद वसूली करने वाले यातायात पुलिस के उस जवान को सिंगरौली पुलिस अधीक्षक के द्वारा तत्काल लाइन अटैच कर दिया गया था, लेकिन अब भी यातायात पुलिस पर सिर्फ एक ही सवाल खड़ा होता है कि ट्रेलर,हाइवा और ट्रक जैसे बड़े गाड़ियों के प्रति यातायात पुलिस की सहानुभूति का कारण क्या है?