शराब माफियाओं के हौंसले बुलंद, लॉक डाउन में भी खुलेआम बिक्री, विभाग पर उठे सवाल

सिंगरौली//राघवेन्द्र सिंह गहरवार।

जिले भर में शराब का अवैध कारोबार कर रहे ठेकेदार अब अधिक लाभ कमाने के चक्कर में गांव-गांव अवैध बिक्री कर अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे है। गांव-गांव हो रहे इस अवैध शराब निर्माण में ठेकेदारों अपने गुर्गों के द्वारा अपने गाड़ी से शराब गांव गांव पहुँचा कर अवैध कोचिया कारोबार को अंजाम दिया जा रहा है।ग्रामीण युवकों को शराब उपलब्ध कराई जा रही है, जिससे ये युवक इन ठेकेदारों के लिए काम भी करते हुए देखे जा रहे हैं।इससे जहां एक ओर ग्रामीण अंचलों व गांवों का माहौल खराब हो रहा है तो वही दूसरी ओर युवा पीढ़ी नशे की लत की आदी होती जा रही है और ऐसा भी नहीं है कि शराब के अवैध कारोबार की जानकारी जिले के आबकारी विभाग को न हो, लेकिन जिले का यह प्रशासन जिले में अपनी सुस्ती व नाकामी का ही परिचय दे रहा है।

देश मे हरित और श्वेत क्रांति के बाद सिंगरौली जिले में आबकारी विभाग की क्षत्र छाया में दारू क्रांति सुरु हुई है।गौरतलब है कि देश मे हरित क्रांति और श्वेत क्रांति हो चुकी और इसका नाम भी सभी ने सुन रखा होगा लेकिन सिंगरौली जिले में एक और क्रांति शुरू हो गई है और वह है अवैध दारू क्रांति।चौकिए मत आबकारी विभाग की छत्रछाया में क्षेत्र में अवैध शराब गली की किराना दुकानों से लेकर गांव के फालिये तक पहुंच गई और आबकारी विभाग के अधिकारी व कर्मचारी शुभ लाभ के चलते यहाँ कार्यवाही करने से हिचकते नजर आते हैं।अवैध शराब के सप्लायर इस कदर फैल गए है कि फोर व्हिलर तो छोड़ दीजिए बाइक से ही अवैध शराब सप्लाई करते यह लोग नजर आ जायेंगे।आबकारी विभाग के शुभ लाभ के फार्मूले के चलते युवा वर्ग नशे की गर्त में डूबता जा रहा है।शराब ठेकेदार द्वारा आबकारी विभाग के सांठगांठ कर गांव गांव अवैध शराब पहुंचाई जाती है।वही लोगो का कहना है कि गांव में जहां कोचिया शराब की बिक्री होती है वहा पर रोजाना लोग शराब पीकर गाली गलौज मारपीट करते नजर आते है जिससे लोगो को आने जाने में परेशानी होती है।अवैध कोचिया शराब आस पास के गांव से लेकर ढाबों तक धड़ल्ले से बिक्री की जा रही है।इतना ही नही शराब माफियाओ के हौसले इतने बुलंद है कि अभी बीते दिन शनिवार को जिला कलेक्टर के द्वारा सम्पूर्ण लॉक घोषित करने के साथ साथ भांग और शराब के बिक्री पर प्रतिबंध लगाया गया था लेकिन खुटार शराब दुकान और परसौना शराब दुकान द्वारा जिला कलेक्टर के आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए सम्पूर्ण लॉक डाउन में शराब की बिक्री पर प्रतिबंध के बावजूद शराब की बिक्री की जा रही थी वही लोगो का कहना है आबकारी विभाग के अधिकारी जैन को उनके नम्बर 9098476121 पर कई बार फोन करके सूचना देने का प्रयास किया गया लेकिन उनके द्वारा फोन रिसीव नही किया गया जो कही न कही इस बात की गवाही देता है कि जिले में अवैध शराब में आबकारी विभाग की भूमिका संलिप्त है

एक तरफ जहां सिंगरौली पुलिस द्वारा जुर्म पर लगातार शिकंजा कसते हुए अवैध शराब कारोबारियो पर कार्यवाही कर सिंगरौली जिले से युवा पीढ़ी को नशे की गर्त से बाहर लाने का प्रयास किया जा रहा है वही आबकारी विभाग द्वारा अवैध शराब की बिक्री पर चुप्पी साधना सवालों के घेरे में उन्हें लाता है एक तरफ से हम कह सकते है कि अगर सिंगरौली पुलिस द्वारा अवैध शराब कारोबारियों पर लगातार ताबतोड़ कार्यवाही नही की जाती तो आज सिंगरौली जिले के हर 50 मीटर की दूरी पर कोचिया शराब की बिक्री होती रहती लेकिन सिंगरौली पुलिस द्वारा जुर्म पर लगातार शिकंजा कसा जा रहा है अब देखना है कि आबकारी विभाग की नींद कर टूटती है