हत्या, अपहरण का आरोपी नाम बदल कर रहे रहा था जीपी पैलेस मेंं, बंगाल पुलिस ने किया गिरफ्तार,सो रही थी सिंगरौली पुलिस

अपराधी लम्बे समय से जीपी पैलेस (G P palace) में प्रमुख पद पर कार्यरत था। लेकिन, इसकी भनक लम्बे समय से सो रही कोतवाली पुलिस को नहीं लगी। जबकि पुलिस कप्तान श्री अभिजीत जैन के कार्यकाल में यह बात उठी थी कि जितने भी स्टाफ(Staff) जिले में कार्यरत हैं उनका पूरा बायोडाटा(Biodata) संबंधित पुलिस थानों में दर्ज किया जाए।

 

सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार। जिला मुख्यालय वैढ़न स्थित होटल जीपी पैलेस(G P palace) में लम्बे समय से कार्यरत चंदन कुमार उर्फ चंदन सुनार उर्फ चंद्रमोहन पिता श्याम नाथ गुप्ता उम्र 36 वर्ष निवासी हाल गनियारी थाना जिला सिंगरौली को पश्चिम बंगाल क्राइम ब्रांच पुलिस ने वैढ़न आकर गिरफ्तार किया है। बंगाल पुलिस ने तत्संबंधी प्रकरण में कोतवाली वैढ़न पुलिस की मदद ली। गिरफ्तारी करने में कोतवाली पुलिस की अहम भूमिका थी।

हत्या, अपहरण का आरोपी नाम बदल कर रहे रहा था जीपी पैलेस मेंं, बंगाल पुलिस ने किया गिरफ्तार,सो रही थी सिंगरौली पुलिस

मजे की बात यह है कि उक्त अपराधी लम्बे समय से जीपी पैलेस (G P palace) में प्रमुख पद पर कार्यरत था। लेकिन, इसकी भनक लम्बे समय से सो रही कोतवाली पुलिस को नहीं लगी। जबकि पुलिस कप्तान श्री अभिजीत जैन के कार्यकाल में यह बात उठी थी कि जितने भी स्टाफ(Staff) जिले में कार्यरत हैं उनका पूरा बायोडाटा(Biodata) संबंधित पुलिस थानों में दर्ज किया जाए। इस पहल को गति श्री रियाज इकबाल पुलिस कप्तान के कार्यकाल में भी दी गयी थी। लेकिन इसके बाद होटलों(Hotels) में कार्यरत स्टाफ तथा आने जाने वाले यात्रियों की जानकारी लेना संबंधित थानों तथा कोतवाली पुलिस ने जरूरी नहीं समझा जिसके कारण हत्या(Murder)और अपहरण(Kidnap) का इतना बड़ा अपराधी लम्बे समय तक सिंगरौली जिले के मुख्यालय में पनाह पाता रहा।

ये भी पढ़े- चिटफंड कंपनियों और रेत माफिया पर सख्त कार्रवाही करें, ‘मैं भी डिजिटल’ का करें प्रचार- जिला कलेक्टर

इसमें कोई शंका निर्मूल नहीं कही जा सकती कि जिले के अंदर संचालित अन्य होटलों और लाजों में कार्यरत कर्मचारी इसी तरह से बाहर से आये अपराधी न हों। इसके अतिरिक्त एनसीएल के विश्राम गृहों तथा हॉस्टल में निर्बाध रूप से रह रहे लोगों में कोई अपराधी न छिपा हो इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता। इसी तरह से सिंगरौली में बड़े अपराध घटित होते हैं और सिंगरौली की पुलिस अपराधियों के पीछे भागते हुए भी मुख्य सूत्रधार को पकड़ पाने में असमर्थ रहती है।
बंगाल पुलिस ने वैढ़न में दबिश देकर इतने बड़े अपराधी को गिरफ्तार करने का काम किया। इस कार्य में कोतवाली पुलिस का योगदान सहयोगी का रहा ना कि अपराधी को गिरफ्तार करने में कोतवाली पुलिस का कोई योगदान रहा।

जगह-जगह शराब के अड्डे और ब्राउन सुगर हो रही सप्लाई
जिले में जगह-जगह शराब बेची जा रही है, जुये के अड्डे चलाये जा रहे हैं। स्मैक, ब्राउन सुगर(Brown Sugar) की सप्लाई भी हो रही है। गांजा बड़े पैमाने पर उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ एवं बिहार से मंगवाकर सिंगरौली जिले में बेंचा जा रहा है। इसके पीछे जो बड़े सूत्रधार हैं उनको गिरफ्तार करने या उनपर सार्थक मुहिम चलाने की बात पुलिस द्वारा भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। जिसका खामियाजा सिंगरौली की जनता को आने वाले दिनों में भुगतना पड़ेगा। बताते चलें कि गत दिनों शिव कुमार सोनी एवं उसके अधिनस्त कर्मचारी की हत्या गोली मारकर की गई थी। जिसका आरोपी शारदा लॉज वैढ़न में ठहरा हुआ था जो कि कोतवाली पुलिस कार्यालय से चन्द मीटर की दूरी पर स्थित है। हत्या के इस प्रकरण में उत्तर प्रदेश की पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करने का काम किया था।

ये भी पढ़े- हत्या, अपहरण का आरोपी नाम बदल कर रहे रहा था जीपी पैलेस मेंं, बंगाल पुलिस ने किया गिरफ्तार,सो रही सिंगरौली थी पुलिस

पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त प्रकरण में हत्या एवं अपहरण का मास्टरमाइंड शातिर अपराधी जो कि अपनी पहचान बदलकर सिंगरौली जिले में निवासरत था एवं अपराध के जगत में चंदन सुनार के नाम से जाना जाता था। उक्त चंदन कुमार उर्फ चंदन सुनार उर्फ चंद्रमोहन पिता श्याम नाथ गुप्ता उम्र 36 वर्ष निवासी हाल गनियारी थाना जिला सिंगरौली को पश्चिम बंगाल क्राइम ब्रांच पुलिस की सूचना पर आज दिनांक 10/03/21 को उसके घर गनियारी से गिरफ्तार किया गया है। पश्चिम बंगाल क्राइम ब्रांच को उक्त अपराधी की तलाश थाना सालनपुर जिला पश्चिम बर्दवान के प्रकरण क्रमांक 51/19 यू/एस 365,364,364ए आईपीसी मे थी।

थाना लाकर उक्त अपराधी से बंगाल पुलिस ने पूछताछ की जिसमें यह तथ्य प्रकाश में आया है कि अपराधी चंदन सुनार बिहार के हाजीपुर जिले का मूलत निवासी है जो कि वर्ष 2002-03 से जब वह हाजीपुर में रहकर पढ़ाई करता था। तब से अपराध की दुनिया में प्रविष्ट हो गया था तथा उसके बाद उसने हत्या एवं अपहरण के कई अपराध घटित किए अपराधी 2006 से 2011 तक रांची हाजीपुर एवं पटना स्थित बेऊर जेल में करीबन 6 वर्ष तक निरुद्ध रहा है जेल से छूटने के बाद अपराधी चंदन सुनार अपनी पहचान छिपाने,काम की तलाश में ठेकेदारी करने के लिए सिंगरौली आ गया तथा सिंगरौली में छोटी मोटी ठेकेदारी करने लगा एवं जीपी पैलेस होटल का संचालन करने लगा तथा गनियारी में मकान लेकर रहने लगा। अपराधी का गिरोह चंदन सोनार अपहरणकर्ता गिरोह के नाम पर बिहार में जाना जाता है। अपराधी द्वारा पूछताछ पर वर्ष 2011 से किसी अपराध में संलिप्त ना होना बताया जा रहा है। किंतु उक्त अपराधी की भूमिका वर्ष 2019 में पीएस सालनपुर जिला पश्चिम बर्दवान में पंजीबद्ध उक्त अपराध में पाई गई है। उक्त प्रकरण में आरोपियों द्वारा तेजपाल सिंह , एवं उसके ड्राइवर का अपहरण किया गया था तथा फिरौती के रूप में करीबन 2 करोड़ 60 लाख रुपए वसूले गए थे उक्त प्रकरण में अभी तक बंगाल पुलिस द्वारा छह आरोपियो की गिरफ्तारी की जा चुकी है। आरोपी का संपूर्ण डेटाबेस एवं आरोपी के अपराधों की जानकारी बिहार, झारखंड,पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश से एकत्रित की जा रही है।