सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार। माड़ा थाना अंतर्गत हुए अंधी हत्या का पुलिस ने खुलासा किया है। बता दें कि 3 नवम्बर की दरमियानी रात करीब सवा दो बजे डायल 100 पर सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम पड़री खूटाटोला में डिहवाईदाई नाला के पास एक शव पड़ा है।सूचना पर डायल 100 द्वारा तत्काल रवाना होकर घटनास्थल पर पहुंचकर देखा कि एक व्यक्ति का शव नाले में औधे मुँह पड़ा हुआ है जिसके बाद डायल 100 के आरक्षक द्वारा माड़ा थाना प्रभारी को उक्त मामले से अवगत कराया गया।

माड़ा थाना प्रभारी अपने टीम के साथ घटनास्थल पर पहुँचकर सिंगरौली पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र सिंह,कंट्रोल रूम,एफएसएल यूनिट,डॉग स्काट को दी गई। वहीं सिंगरौली पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र सिंह के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल सोनकर के मार्गदर्शन में जांच शुरु की गई, वहीं एएसपी अनिल सोनकर घटनास्थल पर मौजूद रहे। घटनास्थल पर मौजूद परिजनों एवं ग्रामवासियों से पूछा गया तो मृतक की पहचान रिंकू सिंह पिता अभिराज सिंह निवासी पड़री खूटाटोला का होना बताया गया।

माड़ा थाना प्रभारी द्वारा घटनास्थल पर एफएस टीम व डॉग स्काट के द्वारा सर्च अभियान शुरू करवाया गया जिसके बाद पुलिस को कुछ सुराग हाथ लगा। जिसके आधार पर पुलिस ने संदेही सोनू कुमार पनिका पिता शोभनाथ पनिका उम्र 20 वर्ष निवासी राजा टोला पड़री को अभिरक्षा में लेकर पूछताछ किया जाने लगा तो संदेही सोनू पनिका ने स्वीकार किया कि उसके द्वारा ही रिंकू सिंह की हत्या की गई है। उसने बताया कि वह रिंकू सिंह से पैसे मांग रहा था लेकिन रिंकू सिंह द्वारा पैसा नहीं दिया गया जिसके कारण आवेश में आकर उसने हथौड़े से रिंकू सिंह के सिर पर मार कर उसकी हत्या कर दी और उसके बाद शव को नाले में छिपाकर फरार हो गया। माड़ा पुलिस द्वारा सोनू पनिका को गिरफ्तार करते हुए अपराध क्र.510/2020 धारा 302,201 भादवि. कायम कर मामला पंजीबद्ध किया गया है। इस मामले में थाना प्रभारी रावेन्द्र द्विवेदी,उपनिरीक्षक अमन वर्मा,सहायक उपनिरीक्षक राजेश सिंह परिहार,बद्री प्रसाद वर्मा, प्रधान आरक्षक रमेश प्रसाद,देवेंद्र पाण्डेय,अरुण प्रताप सिंह,आरक्षक आलोक चतुर्वेदी,आरक्षक राहुल सिंह,अनीष सिंह,चालक आरक्षक राकेश कुमार की सराहनीय भूमिका रही।