उबल रहा जिला, तप रहा आवाम

singrauli-news

 सिंगरौली //राघवेन्द्र सिंह

एक बार फिर आसमानी आफत ने लोगों को मुश्किल में डाल दिया है। धरती को छू रही सूर्य की किरण मानों आग का गोला बन गई है। रवि के इस रौद्र रुप से चारों को त्राहिमाम मचा हुआ है। वही सिंगरौली जिले में पारा 44 डिग्री सेल्सियश पहुंच गया। अब तक सबसे तेज गर्मी पड़ी है। जून के पहले सप्ताह में अगर यह हाल है तो आने वाले दिनों में क्या होगा? यह सोच कर भी लोग परेशान हो रहे है।

दिन निकलते ही गर्म हवाओं के साथ सूरज आग बरसाना शुरू कर देता है ,तापमान हांलाकि 44 डिग्री रहा। जबकि दोपहर होने से पहले गर्मी ने अपना रंग दिखाने शुरू कर दिया। जिससे लोगों को परेशानी होना लाजिमी है कि कुछ देर बाहर रहना ही मुश्किल हो जाता है। इस गर्मी से अपने आप को बचाने के लिए लोग जतन करते नजर आ रहे थे। इतना ही नहीं पशु-पक्षियों ने भी गर्मी से बचने के लिए जतन करते नजर आए। लेकिन बढ़ती गर्मी कम होने का नाम नही ले रही। गर्मी नें घरो मकानों की दीवारों को इतना गर्म कर दिया है कि लोगों को घर व मकान से बाहर बैठना पड़ रहा है। जहां देखो चारों ओर इस गर्मी से अपने आप को बचाने के लिए जतन करते नजर आ रहे है। लेकिन इन्हें इस गर्मी से राहत नहीं मिली। अब लोगों का विश्वास केवल ईश्वर पर ही रह गया है कि कब वर्षा होगी तब जाकर इस भयानक गर्मी से निजात मिलेगी। गर्मी के कारण बिमारियों ने भी लोगों को अपना शिकार बनाना शुरूकर दिया है।

 

विकास के आड़ में पेड़ो की अंधाधुन कटाई व मिट्टी का दोहन

सिंगरौली जिले में विकास के नाम पर लगतार रोजाना कई सैकड़ो पेड़ो की कटाई हो रही है वही फैक्ट्रियो प्लांट आदि को स्थापित करने के किये कई हेक्टेयर भुमि के पेड़ों को नष्ट कर दिया गया वही दिल्ली में बैठे हुए विकास के भूखे लोग जो बाहर से आकर सिंगरौली की शुद्ध हवा को अपनी कंपनी फैक्ट्री प्लांट बैठाकर यहाँ की हवा को जहरीला कर दिए है वही लगातार इनके द्वारा भूमि का दोहन भी किया जा रहा है जिससे जो सिंगरौली कभी पेड़ो की हरियाली में हरी भरी हुआ करती थी आज चारो तरफ खुला हुआ बंजर भूमि नजर आ रही है पेड़ पौधों के कटने के कारण लगातार ऑक्सीजन में कमी आ रही है वर्षा की मात्रा हर वर्ष कम होते जा रहा है वही इंसानो के साथ साथ जंगल मे रहने वाले जानवर पशु पक्षी भी अपने घर जैसे जंगल को उजड़ता हुआ देख शहर की तरफ पलायन कर रहे है या फिर अपना दम तोड़ दे रहे है और यही एक कारण है कि बहुत सी प्रजातीया बिलुप्त होती जा रही है

 

चिमनी से निकलने वाले धुंये और तपन ने जीना किया दूभर

सिंगरौली जिले में जहाँ देखो चारो तरफ फैक्ट्रियो से निकलने वाले धुंये और तपन ने आम जनता का जीना दूभर कर दिया है लगातार सिंगरौली जिले में गर्मी का तापमान बढ़ता जा रहा है वही उससे निकलने वाले धुंये ने वातावरण को प्रदूषित कर रखा है