भगवती मानव कल्याण संस्थान का आतंक, समाज सेवा के नाम पर बना संगठन वसूली गैंग और गुंडागर्दी में बदला

सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार। एक समय था जब प्रदेश में भगवती मानव कल्याण संगठन समाज सेवा और भक्ति भाव के लिए प्रसिद्ध हो चला था, परंतु अब समय के साथ यह संगठन अपने असली उद्देश्य से भटकता नजर आ रहा है। आए दिन संगठन के लोगों द्वारा अवैध शराब पकड़ने को लेकर शराब व्यवसायियों के साथ मारपीट के मामले सामने आते रहते हैं। ऐसा ही एक मामला बीती रात भी बरगवां थाना क्षेत्र से सामने आया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शनिवार शाम भगवती मानव संस्थान संगठन के सदस्य एवं जिला पदाधिकारी प्रेम सागर गुप्ता के नेतृत्व में ग्राम बड़ोखर में एक आरती का आयोजन किया गया था।, इस आरती में संगठन के सदस्य भारी मात्रा में एकत्रित हुए थे। आरती के बाद 25 से 30 की संख्या में संगठन के लोग 2 पिकअप एवं 8-10 मोटरसाइकिल में शराब दुकान जा पहुंचे, जहां उन्होंने उसके मैनेजर बृजेश सिंह पर जानलेवा हमला कर दिया। लाठी-डंडों से पिटाई कर रहे संगठन के लोगों ने बृजेश सिंह को तब तक मारा जब तक वह अधमरा ना हो गया। बताया जा रहा है की संगठन के कार्यकर्ता नारे लगा रहे थे और संगठन की धाक और कानून को जेब में रखने की बात कर वह अपने बाबा शक्तिपुत्र का बखान कर रहे थे। घटना के बाद क्षेत्र में चारों और सनसनी फैल गई। सूचना मिलने पर पुलिस ने पहुंचकर घायल बृजेश सिंह को ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया है, जहां उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। संगठन के नाम पर आए दिन इस प्रकार की जाने वाली गुंडागर्दी से आम जनता त्रस्त हो चुकी है। अब स्थानीय लोग भी प्रशासन से इन पर कार्यवाही की मांग करते दिख रहे हैं।

MP Politics: राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रदेशाध्यक्ष को सौंपी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी, 3 महीने का अल्टीमेटम

बहरहाल इस मामले में पुलिस ने संजीदगी दिखाते हुए तत्परता से कार्यवाही की है। घटना को संज्ञान में लेते हुए पुलिस अधीक्षक बीरेंद्र सिंह के निर्देशन पर एसडीओपी राजीव पाठक के मार्गदर्शन में बरगवां निरीक्षक आर पी सिंह द्वारा तत्काल तथ्यों एवं सीसीटीवी फुटेज के आधार पर कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है, वही कई अन्य की तलाश जारी है। पुलिस अभी इस मामले में नामों का खुलासा नहीं कर रही शराब व्यवसायियों का कहना है कि इससे पहले भी प्रेम सागर गुप्ता के द्वारा इस तरफ की घटना को अंजाम दिया गया है जिसकी शिकायत उन्होंने बरगवां थाने में की थी और उसकी छायाप्रति उन्होंने मीडिया को उपलब्ध करवाया है।शासकीय शराब दुकान में इस तरफ जाकर मारपीट करना यह दर्शाता है कि इन संगठन को कानून व पुलिस का कोई भय नही रह गया है। संगठन के नाम पर ठेकेदारों से पैसे मांगना और न देने पर मारपीट तोड़ फोड़ करना व काउंटर से पैसे निकालना कही न कही इन लोगो के द्वारा अपने इस कृत्य से संगठन के नाम को बदनाम कर रहे हैं।