नशे की तस्करी करने वाले दो सगे भाईयों को मोरवा पुलिस ने किया गिरफ्तार, 12 किलो गांजा बरामद

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत गिरफ्तार कर आज न्यायालय में पेश किया है।

singrauli news

Singrauli News : मध्यप्रदेश में अवैध मादक पदार्थ का कारोबार थमने का नाम नहीं ले रहा है। प्रदेश में अवैध शराब कारोबार चरम सीमा पर है। जिस पर पुलिस लगातार कार्रवाई भी कर रही है। इसी क्रम में सिंगरौली जिले की मोरवा पुलिस को गांजे की खेप पकड़ने में बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने एक गाड़ी से 12 किलो गांजा जब्त कर दो सगे भाइयों को गिरफ्तार किया है। फिलहाल, पुलिस आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर पूछताछ में जुटी हुई है।

क्या है पूरा मामला

मोरवा निरीक्षक अशोक सिंह परिहार को मुखबिर से सूचना मिली कि सोमवार शाम मढौली जयंत रोड पर कुछ लोग गांजा लेकर तस्करी करने वाले हैं।अतः मोरवा निरीक्षक ने सिंगरौली पुलिस अधीक्षक यूसुफ कुरैशी के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिवकुमार वर्मा के मार्गदर्शन में सतत निगरानी में एक टीम गठित कर तस्दीक हेतु भेजा। जहां समय रहते मढौली के पास स्कॉर्पियो रोककर पुलिस ने अवैध मादक पदार्थ गांजा की भरी खेप बरामद कर ली। पुलिस को स्कॉर्पियो क्रमांक UP 64N 6611 से 12 किलो गांजा बरामद किया है, जो अलग-अलग 12 पैकेट में बंधा हुआ था। पुलिस ने स्कॉर्पियो में सवार तीरथ यादव उम्र 28 वर्ष एवं उदय प्रताप यादव उम्र 30 वर्ष दोनों पिता शिवधारी यादव निवासी धवई थाना चितरंगी को अपराध क्रमांक 54/24 धारा 8/20 (बी) एनडीपीएस एक्ट के तहत गिरफ्तार कर आज न्यायालय में पेश किया है। वही गांजा पहुंचने वाले आरोपी की तलाश में जुटी है।

singrauli

प्रेस लिखे वाहन की आड़ में कर रहे थे नशे का कारोबार

पुलिस द्वारा इस कार्रवाई में पकड़े गए वाहन पर बड़े अक्षरों में प्रेस अंकित था। गौरतलब है कि आरोपियों द्वारा पत्रकारिता की आड़ लेकर अवैध कारोबार किया जाता था। सूत्रों की मानें तो महीने में दो बार इनके द्वारा इसी वाहन से नशे की खेप लाई जाती थी। बताया जाता है कि यह दोनों आरोपी सीमा से लगे सोनभद्र के अनपरा से अवैध तौर पर गांजे की खेप मंगवाकर चितरंगी क्षेत्र में बेचा करते थे।

सिंगरौली से राघवेन्द्र सिंह गहरवार की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News