वारिस पठान के बयान का एमपी में भी विरोध

सिंगरौली//राघवेन्द्र सिंह गहरवार

महाराष्ट के वारिस पठान AIMIM विधायक देश मे जहर घोलने वाले बयान घोर निंदनीय है और खुद का सस्ती प्रचार रणनीति और मीडिया में सुर्खियां बटोरने के मंसूबे से प्रेरित है। उक्त उद्गार है मध्य प्रदेश मुस्लिम एजुकेशनल सोसाइटी के जिला अध्यक्ष अधिवक्ता उसैद हसन सिद्दीकी का सिद्दीकी ने अपने प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि जिस तरह से रात-दिन कुछ असामाजिक संगठन व राजनीति के नेता मुस्लिमों के खिलाफ भाषण देकर प्रतिक्रिया का निर्माण कर गैर मुसलमानों में माहौल बनाते हैं व ध्रुवीकरण कर अराजकता फैलाते हैं और चुनाव में मलाई खाते हैं वही काम AIMIM के विधायक कर रहे हैं, वारिस पठान AIMIM विधायक महाराष्ट्र का यह बयान “15 करोड़ है लेकिन 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे” इसका मैं घोर निंदा करता हूं।

सिद्दीकी ने आगे कहा कि असामाजिक तत्व अपने एजेंडों को सिर्फ अपने लोगों से ही आगे नहीं बढ़ा रहा है बल्कि वारिस पठान जैसे लोग सांप्रदायिकता मुस्लिम नेताओं के माध्यम से भी आगे बढ़ा रहे है। ऐसे असामाजिक तत्व व संगठन जो देश की एकता भाईचारा अमन चैन को खंडित करने का जज्बाती भाषण दे रहे हैं ऐसे लोगों का बयान मध्य प्रदेश मुस्लिम एजुकेशनल सोसायटी घोर निंदा करता है, यह गंदगी सियासत फैलाने वाले व देश को तोड़ने वाले ऐसे संगठन व गन्दी राजनीति से दूर रहने की आवश्यकता है। देश में भड़काऊ और विवादित बयानों की होड़ लग गई है।

पूर्व में वित्त राज्यमंत्री व बीजेपी नेता अनुराग ठाकुर ने अपने ‘गोली मारो’ बयान से मीडिया में सुर्खियां बटोरा था । और फिर बीजेपी सांसद परवेश वर्मा ने भी भड़काउं बयान दिया था । प्रवेश वर्मा, अनुराग ठाकुर और अब वारिश पठान के विवादित बयान को सस्ती प्रचार रणनीति क्यों ना समझा जाये ?