प्रदेश को जल्द मिलेंगे अफ्रीका के 20 चीते, मांडव के पुरातात्विक सौंदर्य को निहारने के लिए की जा रही खास तैयारियां

इसकी जानकारी प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान दी।

धार, डेस्क रिपोर्ट। मांडव में रानी रूपमति जिस नर्मदा मां को देखकर भोजन करती थी उस नर्मदा को दूरबीन के माध्यम से अब पर्यटक भी देख सकेंगे। वन विभाग इसकी व्यवस्था कर रहा है। साथ ही प्रदेश में चीते विलुप्त हो चुके है जिनको अब अफ्रिका से लाया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक मध्यप्रदेश में 10-10 के लाट में कुल 20 चीते लाए जा रहे हैं। प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान इसकी जानकारी दी। वन मंत्री ने बताया कि 1 नवम्बर को मध्यप्रदेश का स्थापना दिवस है जिसके उपलक्ष्य में 1 से 7 नवम्बर के बीच अफ्रीका से चीते लाए जा रहे हैं। यहां कुल 20 चीते लाए जाएगें लेकिन फिलहाल अभी 10 चीते लाए जाए रहे हैं।

ये भी देखें- OBC Reservation : MP में ओबीसी आरक्षण लेकर सामने आया नया मोड़

मंत्री विजय शाह आज धार जिले में विभागीय अधिकारियों की एक बैठक लेने पहुंच थे। जहां उन्होंने कहा कि वन विभाग के छोटे कर्मचारियों की समस्या को लेकर सरकार गंभीर है। उन्हें सुरक्षा के लिए हथियार खरीदने का प्रावधान करवाया जा रहा है। जिसके लिए निर्देश जारी किए जा रहे है। उन्होंने कहा- फारेस्ट को लेकर जितने हमारे छोटे-छोटे कर्मचारी हैं, अधिकारी हैं, और खासकर जो वाईल्ड लाईफ के लिए रहते है वो हमारे पार्क के रखवाले हैं। ये रक्षक 12-15 साल से नामिनल पैसे में रात और दिन जान की बाजी लगाकर वे जंगल की सुरक्षा करते है जिन्हें कुशल मजदूर का वेतन तक नहीं मिला है। इसलिए वो मुख्यमंत्री से बात करके भविष्य में कुछ पॉर्क में काम करने वाले है साथ ही वेतन में कुछ बढ़ोत्तरी भी की जाने की बात सीएम के समक्ष रखेंगे। इसी के साथ उन्होंने बताया कि 1 नवम्बर तक सारे पार्कों में गरीब लोगों का कैम्प लगाकर पार्क डे मनाना चाहते है। पॉर्का में काम करने वाले रक्षकों को साल में एक बार उनके परिजनों को जिप्सी में बैठकर पार्क दिखाए जाएंगे।

ये भी देखें- Gold Silver Rate : दो दिन की गिरावट के बाद नहीं बदली सोने की कीमत, चांदी महंगी, ये है ताजा भाव

इसी के साथ वन मंत्री ने मांडव की सौंदर्य के बारे में कहा कि मांडव की खुबसूरती और हरियाली टूरिस्ट को लुभाती हैं और उनको नर्मदा के दर्शन भी हो साथ ही आसमान के वायुमंडल के तारे भी देखने को मिले इसके लिये मांडव की ऊंची पहाडी पर एक वॉच टावर लगाए जाने के निर्देश दिए हैं। यहां एक हाईटेक दूरबिन लगाई जाएगी जिससे टूरिस्ट पहले रानी रूपमति नर्मदा के दर्शन कर पाएंगे और मां नर्मदा के दर्शन कर मांडव की खुबसूरती को निहार सकते हैं।