CM हेल्पलाइन में लापरवाही पड़ी भारी, कमिश्नर ने किया इंजीनियर को निलंबित

कमिश्नर ने अपने आदेश में कहा कि सेंगर के पास तीन बार शिकायत गई लेकिन उन्होंने बिना परीक्षण के तीनों बार गलत जगह इसे भेज दिया जिसके कारण शिकायत L -3 तक पहुँच गई।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर (Gwalior Municipal Corporation Commissioner ) की कमान संभालने के बाद IAS शिवम वर्मा (Shivam Varma) एक्शन मोड में हैं। सफाई व्यवस्था को सबसे ऊपर रखने के बाद अब वे CM हेल्प लाइन (CM Help Line) सहित अन्य योजनाओं को भी गंभीरता से ले रहे है। कमिश्नर ने CM हेल्प लाइन (CM Help Line) प्रकरणों की समीक्षा में पकड़ में आये लापरवाह एक इंजीनियर को निलंबित कर दिया।

11 जनवरी को ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर (Gwalior Municipal Corporation Commissioner )  का चार्ज संभालने वाले शिवम वर्मा (Shivam Varma)  एक्शन में हैं। उन्होंने ऑफिस में 18 जनवरी सोमवार को CM हेल्प लाइन (CM Help Line)के प्रकरणों की समीक्षा के दौरान रेंडमली एक शिकायत क्रमांक 127963663 को चैक किया। शिकायत किसी राहुल पाराशर ने 7/12/2020/को दर्ज कराई थी। शिकायत में बताया गया कि वार्ड नंबर 32 के नौगजा रोड शिंदे की छावनी पर सीवेज लाइन के चैंबर का सरिया बाहर निकला है जिससे दुर्घटना हो सकती है। शिकायत L -1 अधिकारी प्रभारी सहायक यंत्री LS सेंगर के पास गई। सेंगर ने 12/12/2020 को टीप दर्ज की कि स्थल पर नाले से संबंधित कार्य कराया जाना है और शिकायत सहायक स्वास्थ्य अधिकारी को ट्रांसफर कर दी गई। लेकिन शिकायत दूर नहीं हुई और ये सेंगर और स्वास्थ्य विभाग के बीच अटकी रही। नतीजा ये हुआ कि शिकायत L-3 तक पहुँच गई ।

समीक्षा बैठक में मौजूद अधीक्षण यंत्री RLS मौर्य को कमिश्नर ने मौके ओर भेजा। उन्होंने जांच कर बताया कि नाली पर स्लैब डालने का काम होना है जो संबंधित क्षेत्र अधिकारी द्वारा कराया जाना था लेकिन L-1 अधिकारी LS सेंगर द्वारा मौके पर जाकर नहीं देखने से शिकायत को गलत जगह स्वास्थ्य विभाग को ट्रांसफर कर दिया।

अधीक्षण यंत्री की रिपोर्ट मिलने के बाद कमिश्नर शिवम वर्मा ने इसे गंभीर लापरवाही माना। कमिश्नर ने अपने आदेश में कहा कि सेंगर के पास तीन बार शिकायत गई लेकिन उन्होंने बिना परीक्षण के तीनों बार गलत जगह इसे भेज दिया जिसके कारण शिकायत L -3 तक पहुँच गई। कमिश्नर वर्मा ने LS सेंगर को CM हेल्प लाइन को लेकर गंभीरता नहीं बरतने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।