दिल्ली से भागा गिरोह दिव्यांग बनकर मांग रहा था भीख, सिपाही की नजर पड़ी तो खुला राज

गिरोह इंदौर सहित प्रदेश के अन्य शहरों में लोगो की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रुपये ऐंठता था।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में एक ऐसे भिखारी गिरोह का पर्दाफाश एक लाइव स्टिंग ऑपरेशन के जरिये हुआ है जिसे देखने के बाद असल में भी लोग असहाय लोगों की मदद करना बंद कर सकते हैं । दरअसल, गिरोह का एक शख्स बच्चों के साथ अलग – अलग चौराहों और सिग्नल्स पर सक्रिय रहते हैं और हर आने जाने वाले से अपनी नकली दिव्यांगता का हवाला देकर रुपये ऐंठते थे।

इसी तरह का मामला शुक्रवार को इंदौर के एलआईजी चौराहा पर देखने को मिला। यहां भीख मांगने का नया और नायाब तरीका सामने आया है। यहां भिक्षावृत्ति करने वाली गैंग का 25 साल का युवक पकड़ा गया। वह दिव्यांग बनकर एलआईजी चौराहे पर भीख मांग रहा था। उसे देख चौराहे पर खड़े ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने सोचा कि उसकी मदद की जाए और उसके टूटे हाथ की बजाय उसका नकली हाथ बनवाकर उसकी सहायता की जाए। जैसे ही यातयात विभाग के पुलिसकर्मी ने उसके हाथ की पीड़ा को देखना चाहा तो युवक ने झपट्टा मारा और भाग निकला। जिसके बाद सिपाही ने पीछा कर उसे पकड़ा तो उसकी पोल खुल खुल गई।

ये भी पढ़ें – Gwalior News: क्रेन हादसे से आक्रोशित युवक ने प्रभारी आयुक्त को मारा चांटा, गिरफ्तार

दरअसल, उस भिखारी के देखा दोनों हाथ सही-सलामत थे और उसने भीख मांगने के लिए कुर्ते में हाथ इस तरह छिपाया था कि देखने वालों को लगे कि वह दिव्यांग है। कटे हाथ का स्ट्रक्चर तैयार रखने वाले भिखारी ने कबूला कि इसी तरह से उनकी गैंग को ट्रेस कर दिल्ली पुलिस ने उन्हें वहां भगाया था जिसके बाद उनका गिरोह इंदौर सहित प्रदेश के अन्य शहरों में लोगो की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रुपये ऐंठता था।

ये भी पढ़ें – Gwalior News: झंडा लगाते वक्त क्रेन टूटी, 3 की मौत, मौके पर प्रभारी मंत्री-पुलिस बल

बता दे कि ताजा घटना में शुक्रवार को एलआईजी चौराहे पर ट्रैफिककर्मी सुमंत सिंह ने उसने एक दिव्यांग को देखकर मदद करना चाही। जैसे ही उसका हाथ देखना चाहा तो वह झपट्टा मारकर भागने लगा और फिर उसे जैसे-तैसे उसे पकड़ा गया। जब उसका कुर्ता खोला गया तो पता चला कि वह दिव्यांग नहीं है। वही उसने मोबाइल कैमरे पर ही बताया कि वह कैसे अपना हाथ छिपा लेता है। वही इस मामले के सामने आने के बाद युवक को एमआईजी थाने लाया गया। जहां उसने बताया कि कुछ समय पहले दिल्ली पुलिस ने झूठ बोलकर दिव्यांग बनकर घूमने वालों के खिलाफ अभियान शुरू किया है और कुछ लोगों को जेल भी भेजा है। इससे डरकर ही वो और उसकी गैंग के लोग वहां से भागकर इंदौर समेत कई जिलों में आ गए। वही उसने कबूल किया कि यहां इनके साथ दूसरी गैंग भी पैरलल चलती है, जो एक्सीडेंट का झूठ बोलकर कार वालों के पर्स और मोबाइल छीन ले जाते हैं।

ये भी पढ़ें – सरकारी नौकरी: यहां 588 पदों पर निकली है भर्ती, सैलरी 1.80 लाख तक, जल्द करें अप्लाई

फिलहाल, ताजा मामले के सामने आने के बाद सवाल ये उठ रहे है कि क्या दिल्ली की तर्ज पर इंदौर में भी पुलिस को एक अभियान चलाकर ऐसे लोगों पर शिंकजा कसना चाहिए जो कि लोगो के सामने दिव्यांगता का झूठा दिखावा कर उन्हें चपत लगाते है और हर माह 30 से 45 रुपये के करीब रुपये ऐंठ लेते है।