धरने के बीच आई कृषि कानूनों पर रोक की खबर, झूम उठे कांग्रेसी, विधायक ने कही ये बड़ी बात

धरने को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय विधायक प्रवीण पाठक ने कहा कि मोदी सरकार ने काले कानून लादकर किसानों की कमर तोड़ने और पूंजीपतियों की जेब भरने का इंतजाम किया है। लेकिन किसानों के साथ कांग्रेस इन कानूनों को लागू नहीं होने देगी।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। कृषि कानूनों (Agriculture Bill) को वापस (Withdraw) लेने की मांग को लेकर डेढ़ महीने से अधिक समय से आंदोलन कर रहे किसानों (Farmers) के समर्थन में कांग्रेस (Congress) भी लगातार आंदोलन कर रही है। ग्वालियर में कांग्रेस (gwalior Congress) लगातार धरने प्रदर्शन (Protest) कर रही है। आज भी पार्टी ने धरना दिया लेकिन आज के धरने की खास बात ये रही कि धरने के दौरान ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा कृषि कानूनों पर रोक लगाने की खबर आई तो पूरी कांग्रेस खुशी से झूम उठी।

कांग्रेस ग्वालियर में अलग अलग विधानसभा क्षेत्रों में धरना दे रहे हैं। आज का धरना ग्वालियर दक्षिण विधानसभा के हेमू कालानी चौक पर था। धरने का आयोजन क्षेत्रीय विधायक प्रवीण पाठक के नेतृत्व में किया गया था। धरने में जिला अध्यक्ष डॉ देवेंद्र शर्मा, ग्वालियर पूर्व विधानसभा के विधायक डॉ सतीश सिंह सिकरवार, पूर्व सांसद राम सेवक सिंह बाबूजी सहित, कार्य कारी जिला अध्यक्ष, दक्षिण विधानसभा के सभी ब्लॉक और मंडलम अध्यक्ष सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद थे।

धरने को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय विधायक प्रवीण पाठक ने कहा कि मोदी सरकार ने काले कानून लादकर किसानों की कमर तोड़ने और पूंजीपतियों की जेब भरने का इंतजाम किया है। लेकिन किसानों के साथ कांग्रेस इन कानूनों को लागू नहीं होने देगी। विधायक पाठक जब भाषण दे रहे थे तभी खबर आई कि सुप्रीम कोर्ट ने तीनो कृषि कानूनों पर रोक लगा दी है। विधायक पाठक ने माइक पर जैसे ही ये खबर कांग्रेस नेताओं को सुनाई सब खुशी से झूम उठे। उन्होंने कहा कि आप सबके कदम जैसे ही दक्षिण विधानसभा में पड़े ईश्वर ने हमारी बात सुन ली और कोर्ट ने किसानों के पक्ष में ये फैसला ले लिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से किसानों, दलितों शोषितों की आवाज बनती आई है और आगे भी बनती रहेगी।