रतलाम में जर्जर मकान की छत गिरी, दो बच्चों समेत तीन लोगों की मौत

रतलाम। मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में एक बड़ा हादसा हो गया। यहां एक पुराने मकान की जर्जर छत भरभरा कर गिर गई। इस हादसे में घर में अंदर सो रहे एक ही परिवार के तीन लोगों की मलबे के नीचे दबकर मौत हो गई। मरने वालों में दो बच्चे और उनकी मां शामिल है। वहीं एक अन्य व्यक्ति गंभीर रुप से घायल गया। घायल को ईलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जानकारी अनुसार मूलत: झाबुआ के पारा निवासी पति- पत्नी अपने दो बच्चों के साथ रोजगार के लिए रतलाम में रहते थे। वे यहां शहर के जवाहर नगर में चार बत्ती चौराहे पर एक पुराने मकान की पहली मंजिल पर किराए से रहते थे। बुधवार रात परिवार खाना खाकर सोने चला गया। तभी अचानक गर्डर फर्शी वाली छत गिरी और उसमें सभी दब गए। आवाज सुनकर नीचे रहने वाले लोग ऊपर पहुंचे तो वहां सभी को मलबे के नीचे दबा पाया। लोगों ने तुरंत पुलिस और एंबुलेंस को सूचना दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने मलबे के नीचे दबे परिवार को बाहर निकालने का प्रयास शुरू किया। कड़ी मशक्त के बाद सभी को बाहर निकाला जा सका, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। घटना में मां और उनके दो बच्चों की मौत हो गई थी। वहीं पिता घायल हो गया है जिसे इलाज लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। मृतकों का नाम शर्मिला(35), राजवीर(10) और यशिका(6) है। बताया जा रहा है कि मकान 40 से 50 साल पुराना बताया जा रहा है, जिस कारण मकान की छत बहुत जर्जर हो गई थी। मकान मालिका का नाम गोपी वर्मा है।