दूध पीते बच्चों के साथ पूरा परिवार हुआ बेघर, कलेक्टर ने दिलाया न्याय का भरोसा

पैसों की लालच वश बड़े भाई ने बिना बंटवारा किए ही भूमि बेच डाली है। दोनों भाइयों को बच्चों साथ किया बेघर। दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर।

 

उमरिया,बृजेश श्रीवास्तव। संपत्ति(Property) के विवाद को लेकर एक ही पिता के दो भाईयों में ऐसा झगड़ा खड़ा हुआ कि बड़े भाई ने छोटे दो सगे भाईयों की जमीन तो हड़पी ही साथ ही उन्हें घर से भी निकाल दिया है। इसके कारण वह दर-दर की ठोकरें खाने मजबूर हो गये है। महिलाओं और भूखे प्यासे बच्चों को लेकर सड़को की खाक छानने वाले परिवार ने मदद के लिए आज जिले के कलेक्टर का दरवाजा खटखटाया। जहां से उन्हें उम्मीद की किरण नजर आ रही है।

ये भी पढ़े-Satna News: गौरी यादव गैंग का इनामी डकैत को गिरफ्तार, 6 साल से पुलिस कर रही थी तलाश

क्या है मामला-
मामला है जिले(District) के करकेली जनपद के ग्राम पंचायत का जहां रामेश्वर काछी पिता स्व. चंदू काछी के पूरे परिवार को घर से ही निकाल दिया गया है। यह समस्या पटवारी और आरआई(RI) की नाप जोख से उपजी है, जहां बड़े भाई ने अपने हिस्से से अधिक भूमि बेच दी और बचे घर को भी अपना बताकर बेच डाला है। जिसके बाद आवेदकों ने तहसीलदार और थाना प्रभारी सहित कलेक्टर का दरवाजा खटखटाया है इस संबंध में रामेश्वर काछी ने बताया कि उनकी पैतृक संपत्ति है जिसमें चार हिस्सेदार थे, जहां सभी भाई अपना मकान बनवाकर रह रहे थे। लेकिन, पैसों की लालच वश बड़े भाई ने बिना बंटवारा हुए ही भूमि बेच डाली है। इतना ही नहीं इसके बाद खरीददार ने जब पटवारी और आरआई से नाप जोख कराई तो छोटे भाईयों का पुराना और नया मकान भी बड़े भाई के हिस्से में आ गया और वह बिक गया। जिसके बाद उन्हें घर से बेघर भी कर दिया गया उन्होंने बताया कि मामले की जानकारी तहसीलदार करकेली, थाना प्रभारी नौरोजाबाद से की है लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

कलेक्टर का कहना-
मामले के बारे में जब उमरिया के कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव से बात की तो उन्होंने बताया कि करकेली तहसीलदार से को निर्देशित किया जायेगा कि वह साफ साफ सभी भाईयों मे  बंटवारा करवायें।