प्रदेश में पहली बार चिटफंडियोंं पर जिलाबदर की कार्रवाई, निवाड़ी में 6 माह के लिए किया जिले से बाहर

निवाड़ी, मयंक दुबे। चिटफंडियों और क्रेशर संचालकों पर निवाड़ी जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें जिलाबदर किया है। प्रदेश में चिटफंड संचालक पर जिला बदर की कार्रवाई का यह प्रदेश का पहला मामला है।

एसपी आलोक कुमार सिंह की अनुसंशा पर कलेक्टर आशीष भार्गव ने चिटफंड संचालक राहुल यादव पर जिला बदर की कार्रवाई की। बता दें कि निवेशकों से चिटफंड के नाम पर पैसा हड़पने पर पुलिस द्वारा इनपर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था, जिसके बाद एंटी चिटफंड अभियान चलाते हुए एसपी आलोक कुमार सिंह दोषी को जिला बदर करने का फैसला लिया। इस कार्रवाई के बाद चिटफंड संचालक 6 माह के लिए जिले में प्रवेश नही कर सकेगा।

ये भी देखिये – केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार ने दिया होली का बड़ा तोहफा

इसी के साथ एक बार फिर क्रेशर संचालकों द्वारा एनजीटी के मापदंडों का पालन न किये जाने के चलते भी कार्रवाई की गई है। राधे राधे स्टोन क्रेशर को जिला कलेक्टर के द्वारा अग्रिम आदेश तक के लिए बंद कर दिया है। वहीं 25 दिन एनजीटी के मापदंडों का पालन न करने के चलते बंद किए क्रेशर पर जिला कलेक्टर आशीष भार्गव ने 20 हजार रुपये का जुर्माना लगाते हुए उसे खोलने के आदेश देते हुए सख्ती से हिदायत दी कि वह एनजीटी की गाइडलाइन का पालन करें। गौरतलब है कि आसपास के गाँव के लोगो के द्वारा की गई शिकायतों पर एसपी आलोक कुमार के निर्देश के बाद कलेक्टर के द्वारा यह कार्रवाई की गई है।