कोरोना मरीजों को दिया जा रहा फटा हुआ दूध, प्रशासनिक व्यवस्थाओं की खुली पोल

 

कोरोना मरीजों को दिया जा रहा फटा हुआ दूध, प्रशासनिक व्यवस्थाओं की खुली पोल

टीकमगढ़/आमिर खान

देश भर में कोरोना का कहर लगातार जारी है। कोरोना के मामले आए दिन देश भर में बढ़ रहे है। कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या देश में अब तक 11 लाख 95 हजार 635 पहुंच चुकि है। कोरोना के रोकथाम के लिए शासन-प्रशासन हर संभव प्रयास करने में लगा हुआ है। कोरोना संक्रमण के चलते सरकार द्वारा मरीजों को असुविधा न हो इसलिए तमाम तरह की व्यवस्था की गई है। हर कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों को खाने-पीने की सुविधा दी जा रही है। वहीं टीकमगढ़ जिले में कोविड केयर सेंटर की हालत बदहाल है। यहां कोविड केयर सेंटर में पॉजिटिव मरीजों को जबरन खराब नाश्ता और फटा हुआ दूध परोसा जा रहा है,  जिससे पॉजिटिव मरीजों में सरकार और प्रशासन के प्रति रोष व्याप्त है।

मामला टीकमगढ़ शहर के कृषि मंडी के पास बने छात्रावास कोविड सेंटर का है। यहां से पहले भी खराब खाना परोसने की शिकायत सामने आ चुकी है। शिकायत के बाद कलेक्टर ने उचित व्यवस्था करने के निर्देश जारी किए थे, लेकिन उनके निर्देशों का पालन उनके अधीनस्थ नहीं कर पा रहे हैं। आज इस कोविड केयर सेंटर में सुबह से जो नाश्ता पहुंचा वो खराब था, मरीजों के बताए अनुसार उसमे कीड़े थे। इसके साथ जो दूध मरीजों को भेजा गया वह फटा हुआ था। जिससे नाराज मरीजों ने इसकी वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल की है।

फिलहाल सरकार की मंशा पर टीकमगढ़ का प्रशासन पानी फेरता नजर आ रहा है। क्या इस खराब नाश्ता से मरीज सही होंगे या फिर और बीमार ये भी एक सवाल खड़ा हो रहा है। वहीं इस मामले को सोशल मीडिया पर डलने के बाद लोगों ने जिला प्रशासन पर बंदरबाट करने का आरोप लगाया है। लोगों का आरोप है कि सरकार द्वारा भेजी जा रही राशि को जिला प्रशासन के आला अधिकारी ठिकाने लगाने में लगे है।