-Father-murder-his-daughter-for-trap-opponents-

टीकमगढ़।आमिर खान। बुधवार की दरम्यानी रात में खेत पर सो रही 15 वर्षीय नाबालिग बच्ची की हुई हत्या का खुलासा पुलिस ने 24 घन्टे के अंदर ही कर दिया। नाबालिग की हत्या उसके ही पिता ने गोली मारकर की थी। इस पूरी घटना का खुलासा एसपी अनुराग सुजानिया ने पुलिस कंट्रोल में किया।

खुलासा करते हुए टीकमगढ़ के पुलिस कप्तान अनुराग सुजानिया ने बताया कि 17 तारीख की दरम्यानी लिधौरा थाना के सतगुवां गांव में एक 15 वर्षीय बच्ची की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस को जैसे ही घटना की सूचना मिली तो पुलिस ने मौक़े पर पहुंचकर घटना स्थल की कार्यवाही की। इस दौरान मृतिका के पिता ने पुलिस को एक कहानी सुनाई, जिसमें उसने कहा कि जब वह अपनी दोनों बेटियों के साथ खेत पर सो रहा था, तभी चांदनी रात में 06 लोग आए और उसकी बेटी की हत्या करके भाग गए। मैं हथियारबंद लोगों के देख छिप गया।

मृतका की बहन ने खोला राज 

पुलिस को मृतिका के पिता रहीश यादव की इस कहानी पर शक हुआ था, लेकिन उस समय वंहा का माहौल गमगीन था, इसलिए उससे ज्यादा पूंछतांछ नहीं की गई। मृतिका के अंतिम संस्कार के बाद टीकमगढ़ जिले की पुलिस के लोगों की एक टीम बनाई गई, जिसमें महिला पुलिस को भी रखा गया, जब महिला पुलिस ने घटना के दौरान वंहा मौजूद मृतिका की बहिन से पूछताछ की, तो उसने पूरी घटना का पर्दाफाश कर दिया और अपने ही बाप को अपनी बहिन का हत्यारा बताकर हत्याकांड की गुत्थी सुलझा दी।

विरोधी को फंसाने रची बेटी की हत्या की साजिश 

पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया ने आगे बताया कि हत्या का आरोपी रहीश यादव का विवाद गांव के कुछ लोगों से जमीन को लेकर चलता था। इसी के कारण उसने अपनी पुत्री को मौत के घाट उतारा, इसका हत्या करने का उद्देश्य था कि उसकी पुत्री की हत्या का आरोप उसके विरोधियों पर मड़ जाए, लेकिन पुलिस टीम भी सच तक पहुंचना चाहती थी और हुआ वही के कानून के हाथों से यह आरोपी भी नहीं बच पाया।  एसपी ने कहा कि इस खुलासे में लिधौरा पुलिस के साथ-साथ दिगौड़ा, जतारा, कोतवाली टीआई धर्मेन्द्र यादव की अहम भूमिका रही।