कमलनाथ के मंत्री का बड़ा बयान- राहुल की अगुवाई में होगा ‘राम मंदिर’ का निर्माण

Kamal-Nath's-big-statement-to-the-minister--Rahul-will-lead-in-the-formation-of-'Ram-Mandir'

भोपाल।

देश के साथ साथ रामंदिर को लेकर अब मध्यप्रदेश में भी सियासत तेज होने लगी है। जैसे जैसे लोकसभा चुनाव का समय नजदीक आता जा रहा है, वैसे वैसे राजनैतिक दल मंदिर निर्माण को लेकर भी वादे करने से पीछे नही हट रहे है।अब कमलनाथ सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि आने वाले समय में राहुल गांधी की अगुवाई में अयोध्या की विवादित राम जन्म भूमि स्थल पर राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा।लोकसभा चुनाव से पहले मंत्री के बयान ने सियासी गलियाओं में हलचल पैदा कर रही है। 

दरअसल, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री पी.सी. शर्मा शनिवार को रामराजा सरकार की नगरी निवाड़ी जिले के ओरछा में 96 लाख रूपये लागत के रानी गनेश कुँवरि यात्री सेवा सदन का भूमि-पूजन पहुंचे थे।यहां उन्होंने राम मंदिर बनाने को लेकर मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि  अन्य पार्टियां धर्म के नाम पर राजनीति करती हैं और कांग्रेस सभी धर्मों का हृदय से सम्मान करती हैं। अयोध्या में विवादित राम जन्म भूमि स्थल पर आने वाले समय में राहुल गांधी की अगुवाई में राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा। क्योंकि भाजपा ने राम मंदिर मुद्दे को हमेशा उलझाया है और वोट बैंक की राजनीति के लिए इस्तेमाल किया है, जबकि इंदिरा गांधी के कांग्रेस शासन काल में विवादित रामजन्म भूमि के ताले खोलकर उसमे पूजा-अर्चना शुरू की गई थी। इसलिए कांग्रेस ही इस मुद्दे का हल निकाल सकती है।

पुजारी कल्याण कोष का गठन, लगेंगे सौलर यूनिट सिस्टम

शर्मा ने कहा कि  राज्य सरकार द्वारा गठित अध्यात्म विभाग के पहले कार्य का भूमि-पूजन रामराजा सरकार की नगरी ओरछा से किया जा रहा है, ताकि इस नगरी से प्रदेश में मंदिर संस्कृति संरक्षित रहे, मंदिरों की संपत्तियाँ सुरक्षित रहें, उनका सही प्रबंधन हो तथा देव स्थान के हित में सदुपयोग हो सके । सरकार द्वारा पुजारी कल्याण कोष का गठन किया जा रहा है। पुजारियों के बच्चों के श��क्षण और स्वास्थ्य पर भी सरकार ध्यान देगी। पुजारियों के लिये बीमा व्यवस्था लागू की जायेगी। पुजारियों के जो बच्चे संस्कृत में अध्ययन करना चाहते हैं, उन्हें आचार्य स्तर तक की शिक्षा दिलाई जायेगी।उन्होंने कहा कि रामराजा मंदिर में सौलर यूनिट सिस्टम लगाया जायेगा। तीर्थ नगरी के रूप में ओरछा को पूर्णरूपेण विकसित करने के लिये आगामी 50 वर्षों की आवश्यकताओं को दृष्टिगत रखते हुए इसका मास्टर प्लान तैयार किया जायेगा।

विविध कला केन्द्र विकसित होंगे

शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश तीर्थ मेला प्राधिकरण एवं रामराजा मंदिर की संयुक्त निधि से अगले चरण में ओरछा में केशवकुँज मंगल परिसर एवं राय प्रवीण विविध कला केन्द्र बनाये जायेंगे। केशवकुँज मंगल परिसर ओरछा में महाकवि केशव की स्मृति को चिर स्थायी तो बनायेगा ही, साथ ही यह परिसर ओरछा में कथा भागवत विवाह इत्यादि मांगलिक कार्यों के आयोजन के लिये भी आदर्श स्थल होगा। गायन और नृत्य से रामराजा मंदिर को भक्तिभाव से सराबोर करने वाले राय प्रवीण को समर्पित राय प्रवीण विविध कला केन्द्र कला साधकों के लिये स्मारक बनेगा। यह ओरछा में भजन, कीर्तन, नृत्य आदि कलाओं के लिये प्रोत्साहन का कार्य भी करेगा। उन्होंने जीरन और अछरू माता में 20-20 लाख रूपये की धर्मशालाओं का अगले चरण में निर्माण किये जाने की बात भी कही।

बता दे कि विधानसभा चुनाव की तरह कांग्रेस हिन्दुत्व की राह पर चलकर लोकसभा चुनाव की नैय्या पार करने में जुटी हुई है। सॉफ्ट हिन्दुत्व की राह पर चल रही कांग्रेस ने हाल ही में पुजारियों का मानदेय बढ़ाया है।वही विधानसभा चुनाव के बाद से ही कांग्रेस संतों पर नजर जमाए हुए है।अनुमान लगाया जा रहा है कि आने वाले दिनों में कांग्रेस साधु-संतों को लेकर बड़ा दांव खेल सकती है। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस मंत्री का ये बयान काफी हद तक वोटबैंक बढ़ाने में सहायक हो सकता है।