हरियाणा के मेवात की गैंग लूटती थी एमपी के एटीएम, पुलिस ने दबोचा

टीकमगढ़।आमिर खान।

टीकमगढ़ पुलिस ने हरियाणा के मेवात के रहने वाले इस गिरोह के सदस्यों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। एमपी के कई जिलों में एटीएम लूटने की वारदात की घटनाएं सामने आने के बाद एमपी के कई जिलों की पुलिस इनके पीछे लगी थी, लेकिन पुलिस को कामयाबी नहीं मिल पा रही थी, लेकिन इस पकड़े गए गिरोह के पास से पुलिस ने 3 लाख 60 हजार की राशि के साथ घटना में इस्तेमाल होने वाले सामान एटीएम कटर, लोहे की रॉड, स्प्रे, पेंचकस पाना के साथ एक देशी कट्टा बरामद किया है।

गिरोह का खुलासा करते हुए एसपी अनुराग सुजानिया ने बताया कि दिनांक 22 जनवरी को जिले के बल्देवगढ़ थाना में एक चार पहिया वाहन से आए अज्ञात आरोपियों ने एटीएम लूटने की कोशिश की थी, लेकिन वहां आहत सुनकर यह फरार हो गए थे और एटीएम नहीं लूट पाए थे, लेकिन इसके बाद इसी गैंग ने सागर जिले के बांदरी में एक एटीएम को निशाना बनाकर लाखों रुपए लूट कर फरार हो थे, लेकिन टीकमगढ़ पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अपराध में शामिल चार पहिया वाहन का जब पता लगाया तो यह वाहन हरियाणा के मेवात का निकला। बस फिर क्या था पुलिस ने अपनी कार्यवाही शुरू कर दी और इस गैंग का पता लगाने के प्रयास किया। मेवात में टीकमगढ़ से रवाना की गई, जहां टीकमगढ़ पुलिस ने दिन रात एक करके इस गिरोह के गिरेवा तक पहुंचने में सफलता हासिल की। यह सफलता केवल यह रही कि गिरोह का कोई भी सदस्य गिरफ्तार नहीं हुआ, लेकिन पुलिस ने यह साफ कर लिया की एटीएम लूटने वाला गिरोह यही है।पकड़े गए आरोपियों में मुख्य आरोपी वसीम खान है, जो मेवात का रहने वाला है। इसके साथ ही रॉबिन पिता रहीस खान जिला पलवल हरियाणा, माजिद पिता जुम्मा खान निवासी पिप रोड़ी नूह हरियाणा, जितेंद्र पिता शंकर सिंह निवासी बरोदा जिला ललितपुर के साथ एक नाबालिग को भी पकड़ा गया है। एसपी ने अंत में कहा कि इस टीम को लीड करने वाले सब इंस्पेक्टर हिमांशु भिंडिया, सब इंस्पेक्टर नीतू सिंह धाकड़ और शिवपुरी के उपनिरीक्षक रविन्द्र सिकरवार ने भी इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इनके साथ इनकी टीम ने भी बेहतर काम किया है, जिन्हें पुरस्कृत करने के शासन को लिखा जाएगा।

हरियाणा के मेवात में बनाए मुखबिर

पुलिस कप्तान ने बताया जब पुलिस किसी जगह कोई कार्यवाही करने जाती है, तब पहले वह अपने तंत्र और साइबर की मदद लेती है, लेकिन जब वह इन सब में फेल हो जाती है, तो फिर उन्हें वहां मुखबिर स्थापित करना पड़ता है। इसी तरह किसी नई जगह पर ऐसा करना बहुत मुश्किल होता है, लेकिन हमारी टीम ने मेवात में मुखबिर स्थापित किए और फिर इनके स्थानों का पता लगाया।

आगरा महाराष्ट्र हाईवे पर पकड़ा गिरोह

जानकारी देते हुए पुलिस कप्तान ने बताया कि इस गिरोह को मेवात के अंदर पकड़ना मुश्किल था, लेकिन वहां से जो मुखबिर स्थापित हुए थे उन्होंने बहुत मदद की और यह जानकारी पुलिस को दी की ये हैं अपने आई 20 वाहन से महाराष्ट्र गया है। इसी सूचना के बाद हमने तय कर लिया कि इन आरोपियों को हाईवे पर ही पकड़ा जा सकता है। इसके बाद हमने शिवपुरी एसपी की मदद ली और शिवपुरी जिले के हाईवे पर टीम को लगा दिया और जब यह गैंग महाराष्ट्र से वापिस आया उसी दौरान इन्हे दबोच लिया गया।