पृथ्वीपुर में बोले सीएम शिवराज- “हम हैं गारंटर, विकास की गारंटी देने आए”

शिवराज ने आगे कहा कि हम विकास के गारंटर हैं और हमारी सरकार में किसी को डरने की जरूरत नहीं क्योंकि देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार है।

निवाड़ी, मयंक दुबे। मध्यप्रदेश में विधानसभा उप चुनाव (MP By election 2021) प्रचार शबाब पर है। पृथ्वीपुर विधानसभा उपचुनाव में प्रचार के लिए मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan)रविवार को सेमरा पहुंचे जहां उन्होंने जनसभा को संबोधित करते हुए खुद को विकास का गारंटर बताया।

यह भी पढ़े.. कांग्रेस के पूर्व मंत्री का निधन, पार्टी में शोक लहर, भंवरी हत्याकांड में देना पड़ा था इस्तीफा

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान रविवार को सेमरा में पहुंचे और उन्होंने एक बड़ी जनसभा को संबोधित कर बीजेपी के प्रत्याशी शिशुपाल यादव के लिए वोट मांगे। शिवराज ने खुद की सरकार (Shivraj Government) और पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार की कार्यशैली में अंतर बताते हुए कहा कि कमलनाथ ने सरकार (Kamal Nath Government) में आते ही जीरो परसेंट पर ब्याज खत्म कर दिया, कर्जा माफी की बात वल्लभ भवन में पहुंचते ही कमलनाथ भूल गए। गरीबों को मदद पहुंचाने वाली संबल योजना तक बंद कर दी। इतना ही नहीं, गर्भवती महिलाओं और गर्व के बाद सहायता के लिए महिलाओं को दिया जाने वाली 16000 रू की राशि भी कमलनाथ सरकार ने बंद कर दिया।

कमलनाथ की सरकार ने लोगों मरने के बाद दिए जाने वाले कफन के पैसे तक बंद कर दिए। शिवराज ने आगे कहा कि हम विकास के गारंटर हैं और हमारी सरकार में किसी को डरने की जरूरत नहीं क्योंकि देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार है। किसी से डरने की जरूरत नहीं है। आज अच्छे-अच्छे माफिया इंदौर(Indore) और भोपाल में भागते फिर रहे हैं।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को नवंबर में मिलेगी बड़ी खुशखबरी, सैलरी में आएगा 95 हजार तक उछाल

शिवराज ने विकास कार्यों का जिक्र करते हुए बताया कि सरकार ने पृथ्वीपुर में अदरक की मंडी खोल दी। किसानों के लिए प्रधानमंत्री के 6000 रू और मुख्यमंत्री की तरफ से 4000 रू की सहायता दी जा रही है। इसके साथ ही सरकार अब हर घर में पानी पीने का मुहैया कराने जा रही है। हर गरीब को आवास दिलाना भी सरकार की प्राथमिकता में है। शिवराज ने जनता को विश्वास दिलाया कि चुनाव आचार संहिता (Code of conduct) के चलते वह घोषणा तो नहीं कर सकते लेकिन उनकी हर मांग पूरी करने की सरकार गारंटी लेती है।