सांसद वीरेंद्र खटीक की बड़ी भूल, PWD के ठेकेदार को ही बना डाला पीडब्ल्यूडी का सांसद प्रतिनिधि

सांसद वीरेन्द्र कुमार खटीक बड़ी चूक कर गए और जिस PWD का भृष्टाचार मिटाने के लिए सांसद प्रतिनिधि नियुक्त किया गया था, उसी PWD के भृष्टाचारी ठेकेदार को यह जिम्मेदारी दे दी।

टीकमगढ़, आमिर खान। बीते दिनों बीजेपी (BJP) की अंतर्कलह सामने आने के बाद भाजपा में दो फाड़ हो गए थे। यह मामला भाजपा के प्रदेश आलाकमानों तक भी पहुंचा था और भाजपा विधायक राकेश गिरी सहित संगठन के कई पदाधिकारियों को संगठन के सामने सफाई पेश करनी पड़ी थी। इसी जल्दबाजी में सांसद वीरेंद्र खटीक ने अपने तीन जनप्रिनिधि नियुक्त किये थे। जिसमें उन्होंने अभिषेक खरे को नगर पालिका, मनोज देवलिया को स्वास्थ्य विभाग व जितेन्द्र सेन उर्फ़ जीतू को PWD का सांसद प्रतिनिधि नियुक्त कर किया था। लेकिन देश की संसद में प्रोटेम स्पीकर रहने के बाद टीकमगढ़ (Tikamgarh) लोकसभा से सांसद वीरेन्द्र कुमार खटीक बड़ी चूक कर गए और जिस PWD का भृष्टाचार मिटाने के लिए सांसद प्रतिनिधि नियुक्त किया गया था, उसी PWD के भृष्टाचारी ठेकेदार को यह जिम्मेदारी दे दी, जो इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है।

यह भी पढ़ें…दतिया- टीकाकरण महाअभियान, पहले दिन 101 केन्द्रों पर 8 हजार लोगों को लगेंगे टीके

उल्लेखनीय है कि टीकमगढ़ जिले में PWD में कार्य कर रही एजेंसी लव-कुश कंस्ट्रक्शन के भागीदार जितेन्द्र उर्फ़ जीतू सेन को सांसद वीरेंद्र कुमार खटीक ने अपना PWD का प्रतिनिधि नियुक्त किया है। जितेन्द्र उर्फ जीतू सेन की लवकुश कंस्ट्रक्शन कंपनी पहले ही से कई भृष्टाचार के मामलों को लेकर ब्लैकलिस्टिड हो चुकी है। इसके साथ ही जीतू सेन की फर्म के उनके ही साथी अमित श्रीवास्तव ने बीते दिनों जिला अस्पताल तिराहे पर स्थित PWD के बंगले में PWD के ईई मनीष उदैनिया के साथ भी मारपीट की थी। यह मामला भी सुखिर्यों में रहा था और अमित के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर (FIR) दर्ज की थी। इतना ही नहीं सांसद वीरेन्द्र कुमार खटीक के PWD प्रतिनिधि जितेंद्र उर्फ़ जीतू सेन की लवकुश कंस्ट्रक्शन कंपनी इन दिनों शहर के ढोंगा में एक बालक छात्रावास का निर्माण करा रही है। इससे पहले जीतू सेन ने बडागांव हॉस्पिटल, माडूमर-असतोंन सड़क निर्माण, सुधा सागर से आहार रोड़ निर्माण कराया था, जो भृष्टाचार की भेंट चढ़ा।

फ़िलहाल अब यहां यही सवाल है कि सांसद वीरेन्द्र कुमार खटीक अपनी स्वच्छ छवि को दागदार न करते हुए ऐसे PWD के ठेकेदार जीतेन्द्र उर्फ जीतू सेन को किस औहदे तक ले जाते हैं। यहां यह सवाल भी लाजमी है कि सांसद वीरेंद्र खटीक ने जीतेन्द्र उर्फ जीतू को PWD के भृष्टाचार को समाप्त करने के लिए मनोनीत किया है या फिर अपने चहेते की फर्म को काम दिलाकर खुद भृष्टाचार कराकर जनता को मूर्ख बनाने का कार्य किया। अब शहर के आमजन ने सांसद से गुहार की है कि PWD का भृष्टाचार मिटाने के लिए पहले वह अपने ही प्रतिनिधि की फर्म द्वारा कराए गए कार्यों की जाँच कराएं जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए।

यह भी पढ़ें…प्रेम विवाह हुआ असफल तो युवक ने पत्नी वियोग में दी अपनी जान, पुलिस जांच में जुटी