टीकमगढ़/आमिर खान

मंगलवार सुबह निवाड़ी जिले में लोकायुक्त सागर पुलिस ने जनपद पंचायत के सीईओ को 2 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। इस कार्यवाही के बाद अब जनपद पंचायत सीईओ हर्ष खरे ने भी अपना पक्ष मीडिया के सामने रखा है। उन्होंने कहा है कि लोकायुक्त पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई निराधार है और मुझे षड्यंत्र के साथ फंसाया गया है।

बता दें कि मंगलवार सुबह ही सागर लोकायुक्त पुलिस ने जानकारी दी थी कि जनपद पंचायत सीईओ ने मनरेगा काम के भुगतान और पंचायत की जांच निपटाने के एवज में रिश्वत मांगी थी, जिसकी शिकायत लोकायुक्त में की गई थी। लोकायुक्त सागर की टीम ने इस शिकायत पर जांच की और इसके बाद जनपद पंचायत के सीईओ को 2 लाख रुपए की रिश्वत के साथ पकड़ा। अब इस पूरी कार्यवाही पर जनपद पंचायत सीईओ ने अपना पक्ष रखा है। जनपद पंचायत सीईओ हर्ष खरे ने इस कार्यवाही को निराधार बताते हुए कहा है कि मैं अपने घर के अंदर बैठा हुआ था तभी गयादिन अहिरवार मेरे घर आ जाता है और मुझसे कार्यवाही रुकवाने की बात कहता हुआ अनाप शनाप बातचीत करता है। मैं जैसे ही उसे डांटता हूं, तो वह सीधे मेरे कमरे में पैसे फेंककर भागता है। जब मैं उसका पीछा करता हूं, तो देखता के लोकायुक्त के दो कर्मचारी बंगले के बाहर खड़े हैं, जिनके सामने यह व्यक्ति भागता दिखाई दे रहा है। उनके मुताबिक उनके खिलाफ एक बड़ा षड्यंत्र रचकर फंसाया गया है। उनका कहना है कि मैं ईमानदारी से काम कर रहा था। अगर हम जैसे अधिकारियों को ऐसे फंसाया जाएगा, तो निश्चित तौर पर काम नहीं कर पाएंगे। इसके साथ ही जनपद सीईओ हर्ष खरे ने अपनी सुरक्षा की मांग की है। उनका कहना है कि हम लोगों की सुरक्षा होना चाहिए, वरना हम भ्रष्टाचार करने वालों के खिलाफ कैसे कार्रवाई कर पाएंगे।

आपको बता दें कि मंगलवार सुबह निवाड़ी जिले (Niwadi District) में लोकायुक्त सागर पुलिस (Lokayukta Sagar Police) ने जनपद पंचायत के सीईओ (CEO of Janpad Panchayat) को 2 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था। जनपद सीईओ पर मनरेगा (MANREGA) काम के भुगतान और पंचायत की जांच निपटाने के एवज में रिश्वत मांगने का आरोप था, जिसकी शिकायत लोकायुक्त में की गई थी। लोकायुक्त सागर की टीम ने इस शिकायत पर जांच की इसके बाद जनपद पंचायत के सीईओ को 2 लाख रुपए की रिश्वत के साथ पकड़ा।

लोकायुक्त पुलिस के द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार निवाड़ी जनपद पंचायत में पदस्थ सीईओ हर्ष खरे के द्वारा 2 लाख की रिश्वत बंगले पर ली जा रही थी। इसी दौरान इनके बंगले पर छापा मारा गया और उन्हें 2 लाख की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया। बताया गया है कि गयादीन अहिरवार सरपंच पति ग्राम पंचायत टेहरका जनपद पंचायत निवाड़ी ने लोकायुक्त में शिकायत दर्ज कराई थी कि उनसे जनपद सीईओ के द्वारा टेहरका पंचायत की जांच निपटाने और भुगतान कराने के एवज में यह रिश्वत मांगी जा रही है। लोकायुक्त पुलिस ने गंभीरता से लेते हुए मामले में जांच के बाद आज सुबह आरोपी हर्ष कुमार खरे CEO जनपद पंचायत निवाड़ी को दो लाख रुपये रुपए की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया है। लेकिन अब आरोपी हर्ष खरे ने अपना पक्ष रखते हुए सारे मामले को एक षडयंत्र बताया है।