चचेरे भाई-बहन के साथ खेल रही दो सगी बहनें टपरिया में जिंदा जली

पिछोर थाना अंतर्गत नयागांव टीला-मजरा में झोपड़ी में आग लगने की वजह से दो सगी बहनें जिंदा जल गईं। दोनों ही मासूम अपने चचेरे भाई-बहनों के साथ बाहर खेल रही थीं।

पिछोर, शिवम पाण्डेय। प्रदेश के शिवपुरी जिले के पिछोर से दिल दहला देने वाली घटना आ रही है। यहां दो सगी बहनें के जिंदा जलने की खबर ने लोगों के होश उड़ा दिए हैं। पिछोर थाना अंतर्गत नयागांव टीला-मजरा में झोपड़ी में आग लगने की वजह से दो सगी बहनें जिंदा जल गईं। दोनों ही मासूम अपने चचेरे भाई-बहनों के साथ बाहर खेल रही थीं। दोनों ने जैसे ही झोपड़ी में आग की लपटें देखी तो अंदर चली गईं और उसके बाद बाहर ही नहीं आ सकी।

यह भी पढ़ें- MP News : ग्रामीण परिवहन नीति का रोडमैप तैयार, इस दिन से होगी शुरुआत  

रविवार की शाम करीब 4ः30 बजे एक टपरिया में अज्ञात कारणों के चलते आग लग गई। इस टपरिया में 4 बच्चे खेल रहे थे, जिनमें से दो बाहर आ गए और दो सगी बहनें अंदर ही रह गईं। एवं आग में जलने की वजह से उनकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना के समय चचेरे भाई-बहन दूर भाग गए जिस वजह से उनकी जान बच गई। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि टपरिया के ऊपर से बिजली का अस्थायी तार गया है, जिसमें शाॅर्ट सर्किट होने की वजह से आग लगी होगी।

यह भी पढ़ें- Jabalpur News : सहारा पैरा बैंकिंग कंपनी के खिलाफ हितग्राही और निवेशक हो रहे एकत्रित

शिवपुरी जिले के नयागांव टीला-माजरा निवासी कृपाल सिंह लोधी ने बताया कि घर के पास ही उनकी झोपड़ी बनी हुई है, जिसमें भूसा और लकड़ियां रखी रहती हैं। उनके भाई का परिवार भी पास ही रहता है। रविवार सुबह सभी काम पर चले गए थे। पत्नी घर के काम कर रही थी। दोनों बेटियां शिवांशी (4) और निव्या (2) अपने चचेरे भाई-बहन समीक्षा (3) और अभिजीत (4) पिता कल्याण सिंह के साथ घर के पास ही झोपड़ी के बाहर खेल रही थीं।

यह भी पढ़ें- Morena News : थाना परिसर में खड़े कंटेनर में लगी भीषण आग, मची अफरा-तफरी

आग बुझाने के बाद जब टपरिया के अंदर देखा तो दोनों बहनों के शव आपस एक दूसरे से लिपटे हुए एक साथ मिले। बताया जा रहा है कि जब आग लगी तो डर के मारे दोनों मासूम टपरिया के बाहर भागने की जगह अंदर जाकर एक कोने में छिप गई और वे आग में जल गईं। घटना के बाद से गांव में मातम पसरा है।

यह भी पढ़ें- Dabra News : शहर में निकाली गई भगवान श्रीराम की भव्य शोभा यात्रा, जानें क्या है खास

बच्चियों के पिता ने बताया देर शाम अचानक चीख-पुकार सुनकर पत्नी घर से बाहर आई तो झोपड़ी में आग लगी थी। इतने में ग्रामीण मौके पर पहुंचे, उन्होंने आग बुझाने की कोशिश की। दमकल और पुलिस को कॉल किया। दमकल ने पहुंचकर आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक दोनों बेटियां जिंदा जल चुकी थीं।मौके पर पहुंचे पुलिस सहित नायब तहसीलदार और थाना प्रभारी ने पूरी घटना की जानकारी ली। थाना प्रभारी गब्बर सिंह गुर्जर ने कहा, प्रारंभिक जांच में पता चला है कि झोपड़ी के ऊपर से एक अस्थाई तार गुजरा है। संभवत: उसी में शॉर्ट सर्किट से आग लगी होगी।