उज्जैन के इस शमशान में विराजित है चमत्कारी 10 भुजाधारी गणेश, विश्व में इकलौता है ये मंदिर

श्मशान घाट में भगवान गणेश (ganesh mandir) की अत्यंत चमत्कारी व दुर्लभ प्रतिमा स्थापित है। जी हां, यह मंदिर मध्य प्रदेश के उज्जैन (ujjain) शहर में है। इस मंदिर की काफी ज्यादा मान्यता है। कहा जाता है कि यहां मांगी गई हर मनोकामनाएं पूर्ण होती है।

ganesh

उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। अभी तक आप सभी ने कई सारे गणेश मंदिरों (Ganesh Mandir) में भगवान गणेश के दर्शन किए होंगे। साथ ही इन मंदिरों के चमत्कार कहानियां भी आप सभी ने सुनी होंगी। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां श्मशान घाट में भगवान गणेश की अत्यंत चमत्कारी व दुर्लभ प्रतिमा स्थापित है। जी हां, यह मंदिर मध्य प्रदेश के उज्जैन (Ujjain) शहर में है। इस मंदिर की काफी ज्यादा मान्यता है।

विश्व का इकलौता गणेश मंदिर – 

कहा जाता है कि यहां मांगी गई हर मनोकामनाएं पूर्ण होती है। इतना ही नहीं ऐसा मंदिर संपूर्ण विश्व में कहीं पर भी नहीं है। इस मंदिर को लेकर मंदिर के पुजारी ने बताया है कि यह एक इकलौता ऐसा मंदिर है, जहां गणेश जी श्मशान में विराजित है। जी हां चक्रतीर्थ श्मशान घाट स्थित यह मंदिर विश्व का इकलौता मंदिर है। यहां दूर-दूर से भक्त दर्शन करने के लिए आते हैं। इस मंदिर का पुराण के अवंतिका खंड में भी उल्लेख किया गया है।

Must Read : ऐसा हो गया है Amitabh Bachchan का हाल, करना पड़ रही है बाथरूम की सफाई

मंगल ग्रह के द्वारा हुई इस गणेश मंदिर की स्थापना – 

पंडित जी ने बताया है कि मंगल ग्रह के द्वारा इस मंदिर की स्थापना की गई थी। ऐसे में इस मंदिर में 10 भुजाओं वाली प्रतिमा है। दरअसल, अब तक आपने सभी मंदिर में भगवान गणेश की प्रतिमा में उनके हाथ में लड्डू देखे होंगे। लेकिन इस मंदिर में जो प्रतिमा स्थापित है। वह 10 भुजाओं वाली है। ऐसे में भगवान गणेश के हाथों में अलग-अलग 10 शक्तियां मौजूद है। इतना ही नहीं उनकी गोद में पुत्री माता संतोषी को लेकर बैठे हुए हैं और इसी कई आशीर्वाद को प्राप्त कर रहे हैं।

खास बात यह है कि शमशान में विराजित गणपति जी के मंदिर की काफी ज्यादा मान्यता है। यहां की प्रतिमा काफी चमत्कारी मानी जाती है। कहा जाता है कि अगर कोई भक्त 5 बुधवार तक इस मंदिर में गणपति जी के दर्शन करें और मनोकामनाएं मांगे तो वह पूर्ण होती है। इस मंदिर में देश-विदेश से भक्त दर्शन करने के लिए आते हैं। इतना ही नहीं गणेश चतुर्थी के दौरान इस मंदिर में काफी ज्यादा भीड़ देखने को मिलती है। यहां हर्षोल्लास के साथ गणेश उत्सव का त्यौहार मनाया जाता है।