उज्जैन में फिर चाइनीज डोर से हादसा, प्रतिबंध के बावजूद धड़ल्ले से बिक रहा धागा

उज्जैन में 15 जनवरी को घातक डोर के कारण युवती की हुई थी मौत, जिसके बाद पूरे प्रदेश सहित उज्जैन में चाइना डोर बेचने वालों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश मुख्यमंत्री और गृह मंत्री ने दिए थे

उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। पूरे प्रदेश मे चाइनीज डोर को प्रतिबंधित किए जाने के बावजूद धड़ल्ले से यह डोर अभी भी प्रदेश में खुलेआम बेची जा रही है, 15 जनवरी को उज्जैन में इसी डोर की चपेट में आकर छात्रा की गला कटने से मौत हो गई थी, रविवार को फिर ऐसा ही हादसा हो गया, जब उज्जैन में रेलवे स्टेशन पर बहन को छोड़ने के लिए दोपहिया वाहन से जा रहे युवक के गले में चाइना डोर फंस गई। इसके निकालने के चक्कर में युवक का गला व अंगुली कट गई। उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। वहीं चाइना डोर में फंसने के कारण जिला अस्पताल में एक पेड़ पर बैठे पांच पक्षियों की भी मौत हो गई है।

यह भी पढ़े.. कैलाश विजयवर्गीय का ट्वीट हमला, गिनाई योगी सरकार की उपलब्धियां, देखिए वीडियो

उज्जैन की चिमनगंज पुलिस के अनुसार  रविवार दोपहर करीब एक बजे प्रद्युम्न बैरागी निवासी महालक्ष्मी विहार, मक्सी रोड बड़ी बहन को रेलवे स्टेशन छोड़ने के लिए दोपहिया वाहन से जा रहा था। अरविंद नगर में उसके गले में अचानक चाइना डोर फंस गई । इसे निकालने के दौरान उसका गला व हाथ की अंगुली में चोट लग गई। डोर के कारण कट लगने से खून निकलने लगा था। इस पर उसे जिला अस्पताल ले जाया गया। मामले में चिमनगंज पुलिस को शिकायत की गई है। इससे पहले भी ऐसे हादसे में छात्रा की जान चली गई थी जिसके बाद मुख्यमंत्री ने इस घटना को संज्ञान में लेते हुए डोर बेचने वालों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए थे, छात्रा की मौत के बाद पुलिस व प्रशासन ने डोर बेचने वाले तीन लोगों अब्दुल जब्बार निवासी तोपखाना, विजय भावसार निवासी शास्त्री नगर तथा रितेश निवासी इंदौरगेट के मकानों को तोड़ दिया था।