111 गांव से निकलेगी किसान अधिकार यात्रा, प्रदेश भर के किसानों को किया जाएगा एकत्रित

Ujjain News: राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के बारे में तो हर जगह चर्चा चल ही रही है। लेकिन अब ऐसी ही यात्रा उज्जैन के बड़नगर से शुरू हो चुकी है जिसका नाम है किसान अधिकार यात्रा। 8 दिनों तक यह यात्रा चलेगी जो 111 गांव से गुजरने वाली है और बड़ी संख्या में इसमें किसान शामिल होंगे। 404 किलोमीटर लंबी इस यात्रा में रोज 30 किलोमीटर पैदल चलकर किसानों से मिलकर उनकी समस्या जानी जाएगी।

बड़नगर के मोहन सिंह पलदुना यह किसान अधिकार यात्रा निकाल रहे हैं। यह उस समय चर्चा में आए थे जब 2017 में किसान आंदोलन के दौरान एसडीएम की लाठियों से बुरी तरह घायल हो गए थे। मंदसौर गोलीकांड में जिन 6 किसानों ने अपनी जान गंवा दी थी उनके लिए और एक बार फिर प्रदेश सरकार के खिलाफ किसानों की समस्या को लेकर यात्रा निकाले जाने का प्रयास किया जा रहा है।

यात्रा की शुक्रवार से शुरुआत हो गई है जो 23 दिसंबर तक चलेगी। किसानों की समस्याओं को लेकर ये यात्रा निकाली जा रही है। फसल के दाम ना मिलना, यूरिया के लिए परेशान होना, गांव में सड़क, पानी, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं का ना होना और किसानों का अपनी जीवन लीला समाप्त करना। इन्हीं मुद्दों पर इस यात्रा में चर्चा की जाने वाली है और बड़ी संख्या में किसान इससे जुड़ रहे हैं।

बड़नगर से शुरू हुई इस पदयात्रा में मंदसौर गोलीकांड में जान गंवाने वाले 6 किसानों की चरण पादुका का पूजन किया गया। सुबह से शाम तक निरंतर की जाने वाली इस यात्रा के अलग-अलग जगह पड़ाव बनाए गए हैं। इस यात्रा में शामिल किसान नेताओं का कहना है कि प्रदेश सरकार ने किसानों से किए गए बहुत से वादे पूरे नहीं किए हैं इसी के चलते एक ही प्लेटफार्म पर किसानों को लाने के लिए यह यात्रा निकाली जा रही है।

इस यात्रा का हर जगह जोर-शोर से स्वागत किया जा रहा है और किसानों में इसकी जमकर चर्चा भी चल रही है। रोजाना सुबह किसान बड़ी संख्या में एकत्रित होकर यात्रा की शुरुआत करते हैं और अंतिम पड़ाव पर विश्राम किया जाता है। यात्रा का समापन 23 दिसंबर को बड़नगर के मौलाना में ही किया जाएगा।