Ujjain News: जिला प्रशासन की बड़ी कार्यवाही, एजेंट चला रहे मिनी RTO, वहां से मिले सरकारी गोपनीय दस्तावेज

एजेंट अपने कार्यालय से पूरा मिनी RTO संचालित कर रहा था और एजेंट को कार्यवाही की खबर पहले ही लग गयी थी।  जिसकी वजह से कार्यवाही से पहले ही आरोपी प्रदीप शर्मा  फरार हो गया। 

उज्जैन,डेस्क रिपोर्ट। जिला प्रशासन ने आज एक बड़ी कार्यवाही की। आरटीओ (RTO) के बड़े अधिकारियों की मिली भगत से प्रायवेट मिनी आरटीओ चल रहा था। जिसमें एजेंट अपने कार्यालय से पूरा मिनी RTO संचालित कर रहा था।  छापे के दौरान बड़ी मात्रा में आरटीओ  कार्यालय  के  गोपनीय दस्तावेज सहित लायसेंस (License), रजिस्ट्रशन कार्ड (Registration card) और अन्य दस्तावेज एडीएम नरेंद्र सूर्यवंशी और उनकी टीम को मिले। कार्यवाही की खबर पहले ही आरोपी प्रदीप शर्मा को लग गयी थी।  जिसकी वजह से कार्यवाही से पहले ही आरोपी प्रदीप शर्मा  फरार हो गया।  इधर एडीएम ने कहा की इस पुरे मामले में आरटीओ की भी मिली भगत दिखाई दे रही है उनपर भी कार्यवाही के लिए कलेक्टर को लिखा जाएगा।

ये भी पढे़- Chhatarpur : जिले के 13 थानों में महिलाओं के लिए काम करेगी ऊर्जा डेस्क

गोपनीय फाईले एजेंट के कार्यालय में 
जिला प्रशसन को लगातार  आरटीओ (RTO)  में हो रही धान्धली की खबर मिल रही थी। जिसके बाद आज एडीएम नरेंद्र सूर्यवंशी ने अपने अधीनस्थ अधिकारियों को  साथ  लेकर यातायात कार्यालय के पास संचालित होने वाले हिन्द यातायात एजेंसी  के एजेंट प्रदीप शर्मा  के कार्यालय पर छापा मारा , लेकिन अधिकारी  पहुंचते, उस से पहले ही आरोपी प्रदीप शर्मा अपने कार्यालय से फरार  गया। लेकिन, जब अधिकारियों ने कार्यालय की तालाशी ली तो पता चला की बड़ी संख्या में गोपनीय दस्तावेज मिले। जिन्हे आरटीओ कार्यालय में होना था इसके  अलावा बड़ी मात्रा में लायसेंस (License) और रजिस्ट्रेशन कार्ड (Registration card) सहित अन्य दस्तावेज भी बरामद किये है।

आरटीओ  की हो सकती है साठगांठ 
छापा मारने एजेंट के कार्यालय पंहुचे एडीएम नरेंद्र सूर्यवंशी ने जांच के बाद कहा की इस पुरे मामले में कहीं न कहीं उज्जैन आरटीओ की भी मिली भगत नजर आ रही है। जिसकी शिकायत भी हमको मिली थी अब जल्द ही दस्तावेजों के आधार पर उज्जैन आरटीओ  संतोष मालवीय पर भी कार्यवाही  की जायेगी। कार्यवाही के लिए  उज्जैन कलेक्टर को  निवेदन किया जाएगा।  इधर एजेंट प्रदीप शर्मा  पेरेलल आरटीओ कार्यालय चला रहा था और आरटीओ की जगह गोपनीय दस्तावेजों के साथ लायसेंस और रजिस्ट्रेशन बनाने का काम भी कर रहा था ।

ये भी पढे़- Indore : एमवाय अस्पताल बना अय्याशी का अड्डा, मॉर्चुरी में लड़कियों के साथ पकड़े गए कर्मचारी