Piyush Goyal At Mahakal: महाकाल की शरण में पहुंचे केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, निहारी महालोक की खूबसूरती

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल आज बाबा महाकाल के दर्शन करने के लिए अपनी पत्नी सहित उज्जैन (Piyush Goyal At Mahakal) पहुंचे और महाकाल लोक का अवलोकन करने के साथ मीडिया से रूबरू हुए।

Piyush Goyal At Mahakal News: केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल आज बाबा महाकाल के दर्शन करने के लिए उज्जैन पहुंचे। वो यहां पर अपनी पत्नी के साथ पहुंचे थे, उन्होंने सोला पहनकर गर्भगृह में पूजन अर्चन किया और नंदी हॉल में बैठकर बाबा का ध्यान लगाया। इस दौरान वो मंदिर में सुबह हुई भोग आरती में भी शामिल रहे।

Piyush Goyal At Mahakal तस्वीर

केंद्रीय मंत्री सुबह-सुबह दर्शन पूजन के लिए महाकाल मंदिर पहुंच गए थे और बाबा के दर्शन से पहले उन्होंने ई-कार्ट में बैठकर महाकाल लोक का अवलोकन भी किया। इसके बाद उन्होंने सोला पहनकर गर्भ गृह में पूजन कर बाबा से आशीर्वाद मांगा।

Piyush Goyal At Mahakal

पंचामृत पूजन अभिषेक के बाद वह ध्यान में मग्न नजर आए और भोग आरती का भी लाभ लिया। इस दौरान उनके साथ कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम, मंदिर प्रशासक संदीप सोनी, सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल मौजूद थे। समिति की ओर से उन्हें बाबा का प्रसाद और तस्वीर भेंट कर सम्मानित भी किया गया।

 

क्या बोले पीयूष गोयल

महाकाल दर्शन के बाद केंद्रीय मंत्री मीडिया से भी रूबरू हुए और उन्होंने कहा कि पूरे प्रांगण को बहुत ही सुंदरता के साथ तैयार किया गया है, ये नए भारत का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि हर किसी की बाबा महाकाल के ऊपर गहरी आस्था है और मैं उन से यही प्रार्थना करता हूं कि देश में सभी को सुख, शांति और समृद्धि प्रदान करें और सभी के जीवन में हर्षोल्लास बना रहे। मंत्री ने कहा कि महाकाल का दरबार ऐसा है कि यहां पर आकर देश के लिए अच्छा करने की प्रेरणा मिलती है।

इस दौरान वो उज्जैन में उद्योग की संभावना पर भी चर्चा करते दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मित्र टेक्सटाइल मेगा पार्क शुरू हो रहा है जहां पर उद्योग से जुड़े आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में वस्त्र उद्योग के लिए नई संभावनाएं हैं और इसे वस्त्र उद्योग का केंद्र बनाने और लाखों लोगों को रोजगार सहित व्यापार के अवसर और विदेशों में निर्यात करने जैसी चीजों पर काम किया जा रहा है। वह कहते दिखाई दिए कि उज्जैन में भी कई तरह के अलग-अलग योजनाओं पर काम किया जा रहा है।