Ujjain: रुद्रसागर पर पैदल पुल का निर्माण हुआ शुरू, लेजर और साउंड शो बढ़ाएगा भव्यता

महाकाल महालोक योजना के अंतर्गत रुद्र सागर तालाब पर पैदल पुल का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए तालाब से पानी खाली किया जा रहा है।

उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। उज्जैन (Ujjain) के महाकालेश्वर मंदिर (Mahakal Temple) में तैयार किए गए महाकाल लोक (Mahakal Lok) ने शहर की खूबसूरती में चार चांद लगा दिए हैं। यहां रोजाना लाखों श्रद्धालुओं का आना जाना लगा हुआ है। इसी कड़ी में अब रुद्रसागर तालाब (Rudrasagar) पर बनाया जाने वाला पैदल पुल यहां की शोभा बढ़ाने वाला है।

महाकालेश्वर मंदिर पहुंचने के लिए पैदल पुल तैयार करने के लिए रुद्रसागर को खाली किया जा रहा है। 1 फीट पानी कम होने के बाद पुल निर्माण शुरू किया जाएगा। यह पुल चारधाम मंदिर से महाकालेश्वर मंदिर के पिछले हिस्से तक बनाया जाने वाला है। 210 मीटर लंबे और 6 मीटर चौड़े इस पुल का निर्माण सीमेंट कंक्रीट और पत्थरों से किया जाएगा। मंदिर स्थापत्य कला के दर्शन इसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा देंगे।

Must Read- सरकारी कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, अब मिलेगी ये खास सुविधा, नवबंर से शुरू होगी प्रक्रिया, मिलेगा लाभ

पुल की चौड़ाई बीच से ज्यादा रखी जाएगी ताकि ऊपर से गुजर रहे श्रद्धालु रुद्रसागर में आयोजित होने वाले लेजर लाइट और साउंड शो को देख सकें। पुल निर्माण के बाद महाकाल मंदिर पहुंचने के लिए एक नया रास्ता भी तैयार हो जाएगा जिससे भीड़ प्रबंधन में भी सहायता मिलेगी।

बता दें कि इस पुल का निर्माण अप्रैल में शुरू कर दिया गया था। लेकिन बारिश की वजह से रूद्र सागर में पानी भर जाने और इसके बाद पीएम मोदी के महाकाल लोक के लोकार्पण के लिए आने को देखते हुए काम रोक दिया गया था। इसके बाद लगातार चल रहे त्योहारों के चलते यह काम रुका था, लेकिन अब छुट्टियां खत्म हो चुकी हैं और काम शुरू करने की तैयारी की जा रही है।

Must Read- शिवराज सरकार की बड़ी तैयारी, 15 नवंबर से MP में लागू होगा पेसा एक्ट, ऐसा रहेगा पूरा कार्यक्रम

इस पुल का निर्माण स्मार्ट सिटी कंपनी की ओर से महाकाल महालोक योजना के अंतर्गत किया जा रहा है। पहले चरण में जलकुंभी और 5 लाख क्यूबिक मीटर गाद निकालकर रुद्रसागर का कायाकल्प किया जा चुका है। इसके अलावा मिट्टी के कटाव को रोकने के लिए काले पत्थर भी लगाए गए हैं। रुद्रसागर में शिप्रा और गंभीर सहित नर्मदा का जल पाइप लाइन के जरिए भरा गया है और फव्वारे भी लगाए गए हैं। अब दूसरे चरण के तहत यहां पैदल पुल का निर्माण करने के साथ लेजर लाइट और साउंड शो के लिए सिस्टम लगाया जाएगा।