उज्जैन: ट्रेन की चपेट में आई इंजीनियरिंग छात्रा, ढाई घंटे तक सीमा विवाद में उलझी रही पुलिस

उज्जैन में ट्रेन की चपेट में आई छात्रा की मौके पर मौत हो गई। मौके पर पहुंची पुलिस आपस में विवाद करती रही।

उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। उज्जैन (Ujjain) में आज एक ट्रेन हादसे ने होनहार छात्रा की जान ले ली। छात्रा रेल की पटरी के पास रेलिंग पर सूखने के लिए डाले गए कपड़ों को लेने गई थी। अचानक तेज स्पीड से ट्रेन आ गई और ट्रेन की चपेट में आ जाने से छात्रा की मौत हो गई। छात्रा की मौत के बाद मौके पर पहुंची पुलिस सीमा विवाद में उलझी दिखाई दी। ढाई घंटे तक छात्रा का शव वहीं पड़ा रहा।

घटना बड़ी मायापुरी क्षेत्र की है जहां पर 17 साल की विनीता मरमट जो इंदौर के मालवा यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस की छात्रा है, इस ट्रेन हादसे का शिकार हुई है। कॉलेज की छुट्टी होने के चलते वह घर पर ही थी और सुबह 11 बजे रेल की पटरी के पास लगी रेलिंग पर डाले गए कपड़े उठाने के लिए गई थी। छात्रा वहां पहुंची तभी सामने से दाहोद भोपाल ट्रेन आई और छात्रा हादसे का शिकार हो गई। घटना की खबर लगते ही परिवार वाले और आस पड़ोस के लोग मौके पर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी।

Must Read- अब दिल्ली स्टेशन पर यात्रियों को आएगी दुबई वाली फीलिंग, रेलवे ने शेयर की नए मॉडल की तस्वीर

परिव्वर्ववालों का कहना है कि विनीता पढ़ने में बहुत होशियार थी। उसका कहीं आना जाना नहीं था वह सिर्फ अपनी पढ़ाई पर ध्यान देती थी। वहीं दूसरी ओर पुलिस आत्महत्या की संभावना को लेकर भी जांच में जुटी हुई है।

हादसे के बाद मौके पर पहुंची पुलिस में विवाद दिखा दिया। दो थाना क्षेत्र चिमनगंज और देवास गेट थाने की पुलिस यहां पहुंची थी। दोनों ही थाना क्षेत्र के पुलिसकर्मी सीमा विवाद के चलते एक दूसरे से उलझते दिखाई दिए। ढाई घंटे तक पुलिसकर्मियों के बीच यह उलझन चलती रही और विनीता की लाश वहीं पड़ी रही। बाद में चिमनगंज थाना पुलिस ने मामला अपने क्षेत्र का मानते हुए शिकायत दर्ज की और जांच शुरू की।