जामिया गोलीकांड के आरोपी के खिलाफ फेसबुक का भी कड़ा रवैया

उज्जैन। अर्पण कुमार।

नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे जामिया के छात्रों के ऊपर गोली चलाने वाले कथित नाबालिग आरोपी ने अपने फेसबुक अकाउंट पर कई पोस्ट की थी जो उसकी कट्टरवादी छवि को प्रदर्शित करती है। फ़िलहाल आरोपी का फेसबुक अकाउंट डिलीट कर दिया गया है।

आरोपी ने अपने नाम के आगे रामभक्त लगा रखा था, वह नोएडा का रहने वाला है और पिछले कई समय से ऐसी पोस्ट, स्टेटस व कमेंट करता रहता था जिसमें कई आपत्तिजनक व कट्टरपंथी विचार ज़ाहिर होते थे। वह दीपक शर्मा मेमे वाले उपदेश राणा से काफ़ी प्रभावित था।

आरोपी ने 28 जनवरी से ही अपने फेसबुक अकाउंट पर ऐसे संकेत देने शुरू कर दिए थे कि वह कुछ विवादास्पद कर सकता है – 28 जनवरी को उसकी पहली पोस्ट “##तांडव नाम सुना होगा…अब देखोगे..”इसी दिन शाम को 9 बजकर 6 मिनट पर आरोपी पोस्ट करता है “ध्यान दे!कृपा करके 31st तारीख तक मेरी पोस्टों को नज़र अंदाज़ न करे”

रात 10.21 मिनट पर उसका संदेश आता है कि मैं सभी संगठनों से मुक्त हूँ।आरोपी फेक न्यूज़ देखने, शेयर और पोस्ट करने का भी शौकीन था। रात 10:26 मिनट पर उसने एक पोस्ट और की जिसमें वह लिखता है “उज्जैन के मंदिरों पर loudspeaker नही बज सकते तो, तो# ……. आवाज़ न आ जाये…”
यहाँ हम वो शब्द नही लिख सकते क्योंकि वह काफ़ी आपत्तिजनक है।

आपको ज्ञात होगा कि कुछ दिन पूर्व ही उज्जैन के महाकाल मंदिर को लेकर एक फेक वीडियो वायरल हुआ था, जिस पर अभी तक उज्जैन पुलिस द्वारा 4 प्रकरण दर्ज कर लिए गए है । प्रशासन व मीडिया के सहयोग से पड़ताल के बाद वायरल वीडियो आष्टा का होना पाया गया था। उक्क्त फेंक ख़बर का दिल्ली के आरोपी द्वारा पोस्ट करना कई प्रश्न खड़े करता है।

जामिया गोलीकांड के आरोपी के खिलाफ फेसबुक का भी कड़ा रवैया

 

जामिया गोलीकांड के आरोपी के खिलाफ फेसबुक का भी कड़ा रवैया