उज्जैन : गरबा पंडाल में गैर हिन्दू युवकों के शामिल होने पर हुआ बवाल, पुलिस से भी उलझे बजरंग दल के कार्यकर्त्ता, की धक्का मुक्की

उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। इंदौर के बाद अब उज्जैन में भी गरबा पंडाल में गैर हिन्दू युवकों के शामिल होने पर जमकर हंगामा हो गया, घटना शनिवार रात की बताई जा रही है। उज्जैन के नवरंग गरबा पंडाल में गरबे के दौरान वहाँ मौजूद बजरंग दल के कार्यकर्त्ताओ को कुछ युवक गैर हिन्दू नजर आए जब इन युवकों से पूछताछ की गई तो वह आईडी कार्ड नहीं दिखा पाए, जिसके बाद बजरंग दल कार्यकर्त्ताओ ने युवकों को बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया, इसी बीच मौके पर पुलिस पहुंची और पकड़े गए युवकों को हिरासत में ले लिया। हालांकि इस दौरान पुलिस और बजरंग दल कार्यकर्त्ताओ के बीच भी विवाद हो गया।

यह भी पढ़ें… Indore : गरबा पंडाल में मुस्लिम युवकों द्वारा बनाई जा रही थी लड़कियों की फोटो-वीडियो, भेजा जेल

इसी दौरान बजरंग दल के कार्यकर्त्ता पुलिस से ही उलझ गए और धक्का मुक्की पर उतर आए, हालांकि कुछ देर के लिए मौके पर पुलिस और बजरंग दल के कार्यकर्त्ताओ के बीच ही विवाद की स्थिति बन गई, वही विवाद के दौरान मौके पर मौजूद अन्य पुलिस कर्मियों और लोगों ने विवाद शांत करवाया, गैर हिन्दू युवकों माधव नगर पुलिस ने हिरासत में लिया। गौरतलब है कि इस बार प्रदेश में हो रहे गरबा आयोजनों में मुस्लिम युवकों के प्रवेश को लेकर पर्यटन और संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर सहित सांसद प्रज्ञा ठाकुर और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने सख्ती दिखाई है, मंत्री उषा ठाकुर ने गरबा आयोजनों में आईडी कार्ड के बिना प्रवेश न देने के निर्देश दिए है।

यह भी पढ़ें… भोपाल : शक ने ली प्रेमिका की जान, सीएम हाउस से चंद कदमों की दूरी पर प्रेमी ने गला रेतकर उतारा मौत के घाट

वही दूसरी तरफ़ भोपाल में संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने पुनः चेतावनी दी है इंदौर उज्जैन आदि कई जगह एवं भोपाल में भी गरबा आयोजक प्रशासन के आदेशों का पालन नहीं कर रहे हैं वे सरकार से बढ़कर अपने आप को समझ रहे हैं और बगैर आईडी चेक करें गरबा पंडाल में सभी को प्रवेश दे रहे हैं जिसके कारण मुस्लिम भी हमारे गरबा स्थल में प्रवेश कर रहे हैं और हमारी माताओं बहनों के साथ अभद्रता भी कर रहे हैं इससे अगर कोई अप्रिय घटना निर्मित होती है तो इसका जिम्मेदार गरबा आयोजक होगा प्रशासन को भी यह चिंता करना चाहिए कि सभी को आईडी देखकर प्रवेश दिया जाए अन्यथा हिंदू संगठन के कार्यकर्ता अगर चेक करेंगे तो फिर विवाद की स्थिति उत्पन्न होगी जिसके दुष्परिणाम भी गलत हो सकते हैं।