निष्कासित बीजेपी नेता से मुलाकात के बाद उमा भारती ने की यह मांग, ट्वीट कर दी जानकारी

नेता उमा भारती ने प्रीतम लोधी से मुलाकात कर आरक्षण के बारे में चर्चा की। उन्होंने ट्वीट के जरिए इस बात की जानकारी दी।

Uma Bharti Tweet: बीजेपी की फायरब्रांड नेता उमा भारती ने ग्वालियर में भाजपा से निष्कासित नेता प्रीतम लोधी से मुलाकात की है। ट्वीट के माध्यम से उन्होंने इसकी जानकारी दी और लिखा कि उन्होंने प्रीतम लोधी से कहा है कि ओबीसी महासंघ के बैनर तले व एससी एसटी और ओबीसी के लिए प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण की मांग करें और इसमें से 10% गरीब सवर्णों के लिए भी आरक्षण किया जाए।

शराबबंदी को लेकर पिछले लंबे समय से सरकार को निशाने पर रखे उमा भारती ने एक बार फिर प्रदेश की राजनीति में सरगर्मी ला दी है। उमा ने रविवार को ग्वालियर प्रवास के दौरान बीजेपी से निष्कासित नेता प्रीतम लोधी से मुलाकात की। उमा ने ट्वीट के माध्यम से इसकी जानकारी और लिखा कि भाजपा ने पूर्व मंत्री जयंत मलैया और उनके पुत्र के खिलाफ इसलिए कार्रवाई की थी क्योंकि उन पर बीजेपी के प्रत्याशी राहुल लोधी के खिलाफ काम करने का आरोप था।कुछ समय पहले ही पार्टी के एक राष्ट्रीय महासचिव ने तो इसके लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगी। ऐसे में मैं यदि प्रीतम लोधी के यहां नहीं जाती तो यह संदेश जाता कि जब मलैया तक से माफी मांगी गई तो एक पिछड़े, दलित और शोषित तबके के व्यक्ति से दूरी क्यों? मैं प्रीतम के यहां नहीं जाती तो यह संदेश जाता कि बीजेपी इन लोगों के खिलाफ है। उमा ने लिखा कि मैंने प्रीतम लोधी से कहा है कि मैं ओबीसी महासंघ के बैनर तले एससी, एसटी और ओबीसी के लिए प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण की मांग करें और उसमें भी गरीब सवर्णों को 10% आरक्षण दे। उमा ने आगे लिखा है कि समाज में अब केवल दो ही वर्ग हैं। एक अभावग्रस्त और एक सुविधा युक्त। अब सभी अभावग्रस्त लोगों को साथ मिलकर लड़ना होगा।

 

गौरतलब है कि ब्राह्मणों के खिलाफ टिप्पणी को लेकर बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य प्रीतम सिंह लोधी को अध्यक्ष वीडी शर्मा ने पार्टी से निष्कासित कर दिया था और उसके बाद उनके स्वर पार्टी के खिलाफ काफी मुखर हो गए हैं। प्रीतम लोधी का लोधी समाज में अच्छा खासा दबदबा है और उमा भारती का अचानक उनके यहां जाना मध्य प्रदेश की राजनीति में एक नई केमिस्ट्री गढ़ रहा है।