शराबबंदी की मांग तेज : ओरछा में उमा भारती ने शराब की दुकान पर फेंका गोबर

मंगलवार को उमा भारती ओरछा आई थीं, जहां वह अपने समर्थकों के साथ रामराजा सरकार के दर्शन के लिए जा रही थी, लेकिन तभी रास्ते में उन्हें स्वामी विवेकानंद तिराहे स्थित देसी-विदेशी शराब की दुकान खुली मिली। उन्होंने यहां गुस्से में आकर दुकान पर गोबर फेंका।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। शराब की बिक्री को लेकर हमेशा ही आक्रमक रवैया रखने वाली प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने एक बार फिर ओरछा में इसके खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर की है, जहां उन्होंने एक दुकान पर दो-तीन बार गोबर फेंका।

दरअसल, मंगलवार को उमा भारती ओरछा आई थीं, जहां वह अपने समर्थकों के साथ रामराजा सरकार के दर्शन के लिए जा रही थी, लेकिन तभी रास्ते में उन्हें स्वामी विवेकानंद तिराहे स्थित देसी-विदेशी शराब की दुकान खुली मिली। उन्होंने यहां गुस्से में आकर दुकान पर गोबर फेंका। उमा ने इस बारे में पूछे जाने पर बताया कि यहां आने से पहले मैंने फोन भी किया था कि मैं दर्शन के लिए ओरछा आ रही हूं, मुझे दुकान बंद मिले। इसके बाद भी दुकान खुली मिली। इसके बाद हमने गोबर बुलवाकर छिड़क दिया।

ये भी पढ़े … जाको राखे साईं मार सके न कोई, 104 घंटे बाद बोरवेल से जिंदा निकला राहुल

इसके बाद उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “ओरछा के प्रमुख प्रवेश द्वार पर यह दुकान इस जगह के लिए स्वीकृत ही नहीं है। यह किसी दूर गांव के लिए स्वीकृत है, लेकिन ओरछा के मुहाने पर खुली है। इस बारे में जनता ने और हमारे संगठन के लोगों ने लगातार धरने प्रदर्शन किए। सरकार को ज्ञापन दिए और प्रशासन से भी इस दुकान को हटाने के लिए बार-बार गुहार लगाई, क्योंकि यह इस पावन नगरी के माथे पर ही बड़ा कलंक है। यहां पर दुकान खोलना ही महाअपराध है।”

आपको बता दे, इससे पहले भी उमा भारती ने भोपाल की एक शराब की दुकान पर पत्थरों से हमला किया था।