आखिर क्यों धरने पर बैठे महाराज, जानें क्या है पूरा मामला

बांधवगढ का किला लगभग 2 हजार साल पहले बनाया गया था

उमरिया, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के उमरिया (Umaria news) जिले से एक बड़ी खबर आ रही है, जहाँ हर वर्ष की भाँति कृष्ण जन्माष्टमी पर बांधवगढ़ के किले में ऐतिहासिक मेले का आयोजन किया जाता है, जिसका रास्ता बांधवगढ़ नेशनल पार्क से होकर जाता है मगर इस वर्ष बांधवगढ़ नेशनल पार्क ने इसकी अनुमति नहीं दी है, जिसके कारण रीवा रियासत के महाराज पुष्पराज सिंह और सिरमौर से भाजपा विधायक युवराज दिव्यराज सिंह उमरिया जिले में धरने पर बैठ गए।

यह भी पढ़े…संवेदनशील और विनम्र राजनेता गोविंद सिंह राजपूत – कृष्णमोहन झा

बता दें कि महाराज पुष्पराज सिंह और भाजपा विधायक युवराज दिव्यराज सिंह ने पार्क प्रबंधन पर आस्था के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया और कहा कि जब तक प्रशासन आस्था से खिलवाड़ बंद नही करेगा तब तक हम सब धरने पर बैठे रहेंगे। क्योंकि यह परंपरा सदियों पुरानी है इसके साथ कोई भी खिलवाड़ नहीं कर सकता है।

यह भी पढ़े…सीहोर : 3 दिन बाद भी नहीं मिले नदी में बहे तहसीलदार, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी, ग्रामीण भी जुटे सर्चिंग में

गौरतलब है कि बाधवगढ़ किले में राम जानकी का मंदिर स्थित है जहाँ प्रत्येक वर्ष जन्माष्टमी पर मेले का आयोजन होता है। इस मेले में मध्य प्रदेश के विभिन्न जिलो के साथ-साथ उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ के श्रद्धालु भी कृष्ण के दर्शन के लिये आते है। बांधवगढ का किला लगभग 2 हजार साल पहले बनाया गया था, जिसका नाम शिव पुराण में भी मिलता है। इस किले को रीवा के राजा विक्रमादित्य सिंह ने बनवाया था। किले में जाने के लिये मात्र एक ही रास्ता है, जो बांधवगढ नेशनल पार्क के घने जंगलो से होकर गुजरता है।