MP News: लापरवाही पर एक्शन, कलेक्टर ने क्लर्क और महिला अधिकारी को किया निलंबित

जिसके बाद शासकीय कार्य में लापरवाही बरतने के कारण क्लर्क राजीव भटनागर को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड किया गया।

mp

मंदसौर/ उमरिया, डेस्क रिपोर्ट। इन दिनों से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) एक्शन में नजर आ रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि लापरवाही करने वाले कर्मचारी अधिकारी पर त्वरित कार्रवाई की जाए। इसके बाद कार्यों में अनियमितता बरतने वाले अधिकारी-कर्मचारी पर गाज गिरनी शुरू हो गई है। इसी मामले में मंदसौर जिले के कलेक्टर ने सहायक ग्रेड 3 के एक कर्मचारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

दरअसल सहायक ग्रेड 3 के कर्मचारी राजीव भटनागर (rajiv bhatnagar) पर अनुशासनहीनता और शासकीय कार्य के प्रति लापरवाही के आरोप लगे हैं। इस मामले में पटवारी को जांच के आदेश दिए गए थे। जांच में राजीव भटनागर पर लगे आरोप सही पाए गए। इसके बाद कलेक्टर मनोज पुष्प (manoj pushp) ने क्लर्क राजीव भटनागर को शासकीय कार्य में लापरवाही और अनियमितता बरतने के कारण तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।

ज्ञात हो कि मंदसौर जिले के मौजा केलुखेड़ी कि निवासी जीवनबाई कि 19 सितंबर को सांप काटने से मृत्यु हो गई थी। इसके बाद उनके परिजनों द्वारा उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान किए जाने के संबंध में आवेदन दिए गए थे। जिसके बाद क्लर्क राजीव भटनागर, कयामपुर तहसील सीतामऊ द्वारा आवेदन के बाद भी आर्थिक सहायता के प्रकरणों में त्वरित कार्रवाई नहीं की गई।

जिसके बाद शिकायतकर्ता ने इसकी शिकायत आवेदन पत्र और सीएम हेल्पलाइन पर की। मामले की जांच के बाद कलेक्टर मनोज पुष्प ने पटवारी द्वारा जांच टीम गठित की। जहां कर्मचारी पर लगे आरोप सही साबित हुए। जिसके बाद शासकीय कार्य में लापरवाही बरतने के कारण क्लर्क राजीव भटनागर को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड किया गया।

Read More: Indore News : सुमित्रा महाजन का छलका दर्द, बोली- अब मुझे कौन पूछता

उमरिया : महिला अधिकारी को किया सस्पेंड

वही कार्य में लापरवाही बरतने की एक घटना मध्यप्रदेश के उमरिया जिले से भी सामने आई है। ज्ञात हो कि राज्य शासन द्वारा 6 माह से 6 वर्ष तक के बच्चे को प्रतिदिन चना, दाल, शक्कर, गुड, तेल संबंधित 200 ग्राम अनाज प्रति दिन मिलना तय किया गया है।

बावजूद इसके आंगनबाड़ी केंद्र, उमरिया के अनुभागीय राजस्व अधिकारी ने निरीक्षण के दौरान पाया कि आंगनवाड़ी केंद्र में बच्चों को राज्य शासन द्वारा निर्देशित अनाज वितरित ना करके रेडी टू ईट के तहत मुरमुरा वितरित किया जा रहा है।

जिसके बाद मामले की खबर लगते ही कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव द्वारा अपने दायित्वों के प्रति लापरवाही बरतने के मामले में प्रभारी पर्यवेक्षक, करकेली उमरिया को मध्य प्रदेश सेवा नियम 1966 के तहत निलंबित कर दिया गया है।