बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व से निकले बाघ ने 15 महीने के मासूम पर किया हमला, मां ने जबड़े से खींचकर बचाई बेटे की जान

मासूम को बचा रही अर्चना की ललकार और बाघ के गुर्राने की आवाज पास में खेतों में काम कर रहे ग्रामीणों को सुनाई दी तो वे लाठी डंडे लेकर शोर मचाते हुए दौड़े तो बाघ जंगल में भाग गया।

उमरिया, डेस्क रिपोर्ट। यहाँ हम एक मां की बहादुरी की एक ऐसी घटना बताने जा रहे हैं जो लगती तो किसी फ़िल्मी कहानी जैसी है लेकिन है हकीकत। दरअसल एक मां अपने 15 महीने के मासूम को बचाने के लिए बाघ से भिड़ गई, उस मां ने ये भी नहीं सोचा कि कि बाघ उसपर भी हमला कर सकता है , उसे तो बच अपने जिगर के टुकड़े की फ़िक्र थी।  और उसने अपनी ममता की ताकत के बल पर अपने मासूम की जिंदगी बचा ली। बाघ के हमले (tiger attack) में मां और बेटा दोनों घायल हुए हैं जिनका इलाज जारी है।

ये पूरी घटना मध्य प्रदेश के प्रसिद्द बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व (Bandhavgarh Tiger Reserve) से सटे एक गांव की है। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व से लगा हुआ गांव है रोहनिया ज्वालामुखी। आज रविवार को करीब 12 बजे जब अर्चना चौधरी पत्नी भोला प्रसाद चौधरी अपने 15 महीने के लाल राजवीर के साथ खेत पर काम कर रही थी। बच्चा खेल रहा था तभी एक बाघ जंगल से निकलकर आया उसने मासूम का शिकार करने के लिए जबड़ा खोलकर हमला करने के इरादे से छलांग (tiger attacked innocent) लगाई।

ये भी पढ़ें – Kapil Sharma की Mega Blockbuster ने फैंस को दिया शॉकिंग सरप्राइज, रिलीज हुआ ट्रेलर

बाघ की आहट सुनकर अर्चना ने दौड़ लगाई और बाघ को चकमा देते हुए मासूम राजवीर को खींच (Tiger attacked the innocent mother saved life) लिया। हालाँकि बाघ का पंजा तब तक मासूम राजवीर की छाती, पीठ और शरीर के अन्य हिस्से को घायल कर चुका था। बेटे को बचाने गई मां पर भी इस दौरान बाघ ने हमला किया लेकिन उसने बच्चे को छाती से चिपकाया और जमीन पर उसे गिराकर उसके ऊपर लेट गई , इस हमले में अर्चना को भी कई जगह बाघ ने पंजे मारकर घायल कर दिया।

ये भी पढ़ें – AIIMS Recruitment 2022: इन 33 पदों पर निकली है भर्ती, 15 अक्टूबर से पहले करें आवेदन, जानें आयु पात्रता

मासूम को बचा रही अर्चना  की ललकार और बाघ के गुर्राने की आवाज पास में खेतों में काम कर रहे ग्रामीणों को सुनाई दी तो वे लाठी डंडे लेकर शोर मचाते हुए दौड़े तो बाघ जंगल में भाग गया। ग्रामीणों ने घायल मां बेटे को केंद्र में उपचार के लिए पहुंचाया और वन विभाग को इसकी सूचना दी।

ये भी पढ़ें – सरकार का बड़ा फैसला, ई व्हीकल से जुड़ा ये नियम बदलेगा, जल्दी जारी होगा नोटिफिकेशन

बहादुर मां अर्चना की खबर गांव से लेकर जिले तक आग की तरह फ़ैल गई, हर कोई उसकी न सिर्फ तारीफ कर रहा है  बल्कि मां बेटे के जल्दी ठीक होने की दुआ भी कर रहा है। इस घटना के बाद इस बात को मानने से कोई इंकार नहीं कर सकता कि जिसे लोग अबला समझते हैं वो स्त्री समय आने पर दुर्गा और काली बनकर काल से भिड़ने से नहीं घबराती।