भाजपा विधायक का ये कैसा व्यवहार,टीआई को सरेआम फटकार

विदिशा,डेस्क रिपोर्ट। विदिशा में धार्मिक कार्यक्रम के दौरान क्षेत्रीय विधायक का वीडियो सामनें आया है।बेहद गुस्साए भाजपा विधायक उमाकांत शर्मा पुलिस अधिकारी को जमकर डांट रहे है। गुस्से में जमकर चिल्लाते हुए विधायक उमाकांत शर्मा आगे बढ़ जाते है और पुलिस अधिकारी वही खड़ा रह जाता है। वीडियो में साफ नजर या रहा है की कोरोना काल मे भी मनाही के बावजूद धार्मिक आयोजन में नेता जी अपने कार्यकर्ताओ के साथ सड़क पर भीड़ में शामिल है ,और जब इस भीड़ को नियंत्रित करने का प्रयास पुलिस करती है तो किस तरह नेता जी पुलिस को ही आँख दिखा रहे है, और बेकाबू न होने की नसीहत दे रहे है। कोरोना का कहर अभी टला नहीं है उसके बावजूद विधायक भीड़ के साथ सड़क पर मौजूद है, परवाह नहीं है की कोरोना किस कदर कहर बरपा चुका है, और तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है ,उसके बावजूद अपनी नेतागिरी चमकाते विधायक पुलिस को भी चमका गए।

सिंधिया की बड़ी घोषणा, फरवरी 2022 में करेंगे एयरपोर्ट का शिलान्यास, अगस्त 2023 में लोकार्पण

मामला विदिशा जिले का है। वहा पर एक धार्मिक कार्यक्रम चल रहा था। सड़क पर जुलूस निकल रहा था और इस जुलूस में भाजपा के सिरोन्ज से विधायक उमाकान्त शर्मा भी मौजूद थे। थाना प्रभारी गिरीश दुबे सड़क पर खड़े होकर लोगों की भीड़ संभाल रहे थे कि उसी दौरान विधायक मौके से गुजरे और उन्होंने किसी बात पर थाना प्रभारी को फटकार लगा दी। विधायक थाना प्रभारी को काबू में रहने की नसीहत देते नजर आए। हालांकि नसीहत देने के बाद विधायक आगे बढ़ गए लेकिन थाना प्रभारी मौके पर मायूस खड़े रह गए। लेकिन सार्वजनिक रूप से इस तरह पुलिस अधिकारी को इस तरह चिल्लाना जनप्रतिनिधि पर सवाल खड़े कर गया। सोशल मीडिया पर विधायक के इस आचरण की आलोचना हो रही है। वही विधायक के इस तरह के बर्ताव के बावजूद थाना प्रभारी गिरीश दुबे चुपचाप उसी जगह पर खड़े रहे।

GOOD NEWS : एक्सपर्ट की राय कोरोना की तीसरी लहर की आशंका कम, सर्दी खांसी की तरह हो जाएगा कोरोना

एक जनप्रतिनिधि द्वारा किये गए असामान्य व्यवहार को सहज और शालीनता के साथ सुनते हुए अपने कर्तव्य का निर्वाह करते हुए दिखाई देने वाले पुलिस अफसर गिरीश दुबे द्वारा एक बार फिर अच्छे पुलिस अधिकारी होने का परिचय दिया है जो दर्शाता है कि पुलिस किस तरह विषम परिस्थितियों में भी अपना काम करती है ,जबकि नेता जी कोरोना काल मे भीड़ जुटाकर कार्यकर्ताओ के साथ मज़े से धार्मिक आयोजन में शामिल हो रहे है।