पश्चिम मध्य रेलवे ने किया सुविधाओं में किया इजाफा, लेकिन ‘यात्री मांगे मोर’

देश का सबसे बड़ा आवागमन का साधन है भारतीय रेल, भारतीय रेल से रोजाना करीब 1 करोड़ से ज्यादा लोग यात्रा करते हैं। ऐसे में यात्रियों को रेलवे का बेहतर से बेहतर सुविधा देने का प्रयास रहता है, लेकिन रेलवे इसमे कभी सफल होता है तो कभी असफल।

जबलपुर, संदीप कुमार। देश का सबसे बड़ा आवागमन का साधन है भारतीय रेल (Indian Rail), भारतीय रेल से रोजाना करीब 1 करोड़ से ज्यादा लोग यात्रा करते हैं। ऐसे में यात्रियों को रेलवे का बेहतर से बेहतर सुविधा देने का प्रयास रहता है, लेकिन रेलवे इसमे कभी सफल होता है तो कभी असफल। बात करें अगर पश्चिम मध्य रेल्वे (West central railway) की तो बीते कुछ सालों में यात्रियों की सुविधा को लेकर जरूर इस जोन में इजाफा हुआ है लेकिन अभी भी यात्रियों को लगता है कि इसमें कहीं कुछ कमी है जिसे यात्रियों की सहूलियत को देखते हुए रेलवे को इस पर काम करना होगा।

पश्चिम मध्य रेलवे के अंतर्गत 372 स्टेशन आते हैं। छोटे स्टेशन या फिर वो स्टेशन जहां पर रेल का स्टॉपेज कम है, उन स्टेशनों को छोड़ दे तो रेलवे ने यात्री सुविधाओं को देखते हुए स्टेशनों पर कई बदलाव किए हैं। जबलपुर स्टेशन (Jabalpur Station) में हाल के कुछ सालों में यात्रियों को गजब की सुविधाएं प्रदान की गई हैं.एक नजर रेलवे स्टेशन में दी जाने वाली यात्रियों को सुविधाओं पर-

*जबलपुर सहित अधिकांश रेलवे स्टेशन पूर्णता वाईफाई से लैस
*करीब 80 प्रतिशत यात्री उठाते हैं स्टेशन में लगे वाईफाई का लाभ
*पमरे के अधिकतर स्टेशन सीसीटीवी कैमरे से लैस
*ज्यादातर स्टेशन के प्लेटफार्म में लगे हुए सीसीटीवी कैमरे
*ज्यादातर प्लेटफॉर्मस की बढ़ाई गई है लंबाई,18 कोच की ट्रेन की जगह अब 24 कोचों की खड़ी हो रही है गाडिय़ां
*यात्री सुविधा को देखते हुए प्लेटफार्मो को ओवर शेड कवर से किया गया लैस
*अधिकांश बड़े स्टेशन में स्वत: प्लेटफार्म टिकट की लगाई गई है मशीन
यात्री सुविधा के लिए स्टेशन पर आरपीएफ-जीआरपी और वाणिज्य विभाग की टीम रहती है तैनात
*इलेक्ट्रॉनिक आरक्षण चार्ट डिस्प्ले बोर्ड की व्यवस्था
*बड़े और मुख्य स्टेशनों में लिफ्ट सहित एक्सीलेटर की यात्रियों के लिए व्यवस्था

अब जाने क्या कहते हैं यात्री
जबलपुर स्टेशन में यात्रियों को मिल रही सुविधा को लेकर हमने कुछ यात्रियों से भी बात की यात्री बताते हैं कि पहले की अपेक्षा जबलपुर स्टेशन की कायाकल्प हो गई है। ट्रेनों की जानकारी समय पर मिल रही है, इंटरनेट की फ्री सुविधा वाईफ़ाई के जरिए मिल रही है। यात्री सुरक्षा के लिहाज से आरपीएफ-जीआरपी तैनात रहती है, कुछ सालों में वाकई जबलपुर स्टेशन बदल गया है। इधर यात्रियों का ये भी कहना है कि रेलवे ने सुविधाएं तो दी है पर अभी भी सुधार की जरूरत है, गौरव की माने तो स्टेशन में सब कुछ ठीक है पर खाने की गुणवत्ता वो वहीं पहले जैसी है। उन्होंने कहा कि रेलवे को इस ओर ध्यान देकर खाने-पीने की वस्तुओं में सुधार करना जरूरी है।

जाने रेलवे ने किस तरह से किया है स्टेशनों में विकास
जबलपुर सहित पश्चिम मध्य रेलवे ने अपने यात्रियों के लिए बीते कुछ सालों में कई सुविधाएं दी हैं। पश्चिम मध्य रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि ट्रेन के लिए टाइम सिस्टम को 27 स्टेशन में लगाया है, जिससे कि ट्रेन की सही जानकारी यात्रियों को मिलती रहती है। इसके अलावा 109 वाटर वेंडिंग मशीन, 209 स्टेशनों में वाईफ़ाई सुविधा, माताओं बहनों के लिए बच्चों को स्तनपान करवाने के लिए 18 स्टेशनों में अमृत काउंटर, वाटर बोटल क्रशिंग मशीन के साथ करीब 23 स्टेशनों में एटीएम की सुविधा भी दी गई है। पश्चिम मध्य रेलवे ने इन तमाम सुविधाओं के साथ-साथ सफाई पर भी खासा जोर दिया है। यही वजह है कि पश्चिम मध्य रेल का जबलपुर स्टेशन साफ सफाई के मामले में अव्वल नंबर पर है। बहरहाल कुल मिलाकर रेलवे की सुविधाओं से यात्री खुश जरूर हैं पर कहीं ना कहीं वे इसमें और सुधार की आशा रखते हैं।