उपचुनाव : राहुल, प्रियंका की रैली पर बोले कमलनाथ, बीजेपी पर निशाना- 7 महीने से बाजार में

कमलनाथ ने कहा कि 2018 में जनता ने शिवराज सिंह चौहान को घर बैठाया था। भारतीय जनता पार्टी को प्रदेश से विदा किया था लेकिन जिसके बाद इन्होंने खरीद-फरोख्त कर सरकार बनाई।

कमलनाथ

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) में पिछले 7 महीने में सिर्फ सौदेबाजी हुई है और बीजेपी (BJP) ने प्रदेश का कबाड़ा कर दिया है। यह कहना है प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ (PCC Chief Kamal Nath) का। वही सोनिया गांधी (Sonia gandhi), राहुल (rahul) और प्रियंका गांधी (priyanka gandhi) के मध्य प्रदेश उपचुनाव (bye election) रैली में शामिल होने को लेकर भी कमलनाथ ने उत्तर दिया है।

दरअसल एक मीडिया साक्षात्कार के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ ने बीजेपी सरकार की खरीद-फरोख्त पर अपनी बात रखी। कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस से जो नेता टूट रहे हैं। उसके लिए बीजेपी जिम्मेदार है। बीजेपी पिछले 7 महीने से अनैतिक राजनीति अपना रही है। इसका जवाब 3 नवंबर को जनता उन्हें देगी। कमलनाथ ने कहा कि मध्य प्रदेश के 28 सीटों की जनता पर मुझे पूरा विश्वास है। वह सौदा समझते हैं। वह समझ रहे हैं कि बीजेपी खरीद-फरोख्त कर सरकार बना रही है। नोट से खरीदकर बनी सरकार जनता समझ रहे हैं।

2018 में जनता ने शिवराज सिंह चौहान को घर बैठाया

इधर कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) घुटने टेक रहे हैं। मैं टेम्पोरेरी मुख्यमंत्री हूं। शिवराज सिंह चौहान को पता है कि जनता का रुख किस तरफ है। कमलनाथ ने कहा कि 2018 में जनता ने शिवराज सिंह चौहान को घर बैठाया था। भारतीय जनता पार्टी को प्रदेश से विदा किया था लेकिन जिसके बाद इन्होंने खरीद-फरोख्त कर सरकार बनाई। जिसके बाद जनता ने अपना फैसला बदल लिया है। कमलनाथ ने कहा कि जनता त्रस्त है। किसान त्रस्त हैं। कोरोना काल (Corona era) में जिस तरह से बीजेपी ने प्रदेश की हालत खराब कर दी। भारतीय जनता पार्टी के पास इस चुनाव में कहने को कुछ बचा नहीं है। जिसके बाद वह खरीद-फरोख्त में शामिल हो गई है।

अभी तक भारतीय जनता पार्टी बाजार में

वही किसान कर्ज माफी पर बोलते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान, उनकी पार्टी लगातार झूठ बोलती रही। 15 महीनों के शासन में किसान का कर्जा माफ नहीं किया। जबकि एक बार इन्हें विधानसभा में ही कहना पड़ा कि लगभग 27 लाख किसानों का कर्जा कांग्रेस सरकार ने माफ किया था। लगातार पार्टी से बिछड़ रहे नेता से कांग्रेस कार्यकर्ता पर इसका असर के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेसी कार्यकर्ता को एक और मुद्दा मिल गया है कि उपचुनाव के वक्त में भी बीजेपी खरीद-फरोख्त में लगी हुई है। अभी तक भारतीय जनता पार्टी बाजार में है।

सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका गांधी की रैली पर दिया जवाब

वही एक सवाल के जवाब में कि बीजेपी के दिग्गज लगातार जनसंवाद कर रहे हैं। शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया, नरेंद्र सिंह तोमर जैसे दिक्कत लगातार लोगों के बीच पहुंच रहे हैं। जबकि कमलनाथ बिल्कुल अकेले नजर आ रहे हैं। इस सवाल के जवाब में कमलनाथ ने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने कभी उपचुनाव में प्रचार नहीं किए हैं। कमलनाथ अकेले नहीं है। उनके पार्टी के लोग उनके साथ हैं।

Read More: बीजेपी नेता लाल सिंह आर्य का बयान- कांग्रेस के लिए दलित सिर्फ वोट बैंक

आंकड़ों में यकीन नहीं रखता- कमलनाथ 

कांग्रेस के प्लान बी के सवाल के जवाब में कमलनाथ ने कहा कि हमने कोई प्लान ए और प्लान बी तैयार नहीं किया है। हम सिर्फ मध्यप्रदेश का भविष्य सुरक्षित करना चाहते हैं। वहीं उपचुनाव में कितनी सीट पर जीत दर्ज करने के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि आंकड़ों के विषय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात की जाए। मैं आंकड़ों में यकीन नहीं रखता। कांग्रेस को कितनी सीट आएगी मध्य प्रदेश की जनता तय करेगी।

एक तरफ जहां कांग्रेस से नेताओं के बाहर आने-जाने का सिलसिला लगा हुआ है। वहीं दूसरी तरफ कमलनाथ इसे बीजेपी का षड्यंत्र बता रहे हैं। वही इस उपचुनाव में कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व का हस्तक्षेप नजर नहीं आ रहा है। जिस पर लगातार चर्चा हो रही है किंतु कोई भी कांग्रेस नेता इस पर कुछ कहने को तैयार नहीं है। ऐसे भी 3 नवंबर को होने वाले चुनाव में कांग्रेस की क्या स्थिति होती है। यह देखना दिलचस्प है। वैसे कांग्रेस की तरफ से 28 सीट जीतने के दावे जोर शोर से किए जा रहे हैं।