दिग्विजय पहुंचे चुनाव आयोग, कहा- अधिकारियों के दम पर जीतना चाहते हैं शिवराज

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने चुनाव आयोग से शिकायत करते हुए कहा- कर्मचारियों और अधिकारियों के सहारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चुनाव जीतना चाहती है

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (Madhyapradesh) की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (Byelection) में जीत के लिए बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) दोनों ही दल एड़ी छोटी का जोर लगा रही हैं| इधर कांग्रेस को प्रदेश के सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों पर भरोसा नहीं है| इस मामले में अब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) चुनाव आयोग (Election Commission) पहुँच गए| ग्विजय सिंह ने चुनाव आयोग से शिकायत करते हुए कहा- कर्मचारियों और अधिकारियों के सहारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चुनाव जीतना चाहती है।

दिग्विजय सिंह ने बीजेपी नेताओं के विवादित बयान को लेकर भी आयोग से शिकायत की और कार्रवाई करने की मांग की। पूर्व मुख्यमंत्री ने चुनावी व्यवस्था को लेकर आज मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से शिकायत की। उन्होंने कहा कि हमें चुनाव ड्यूटी में लगे कई स्थानों पर बेईमान अधिकारी कर्मचारियों पर भरोसा नहीं है। भाजपा सरकार चुनाव अधिकारियों के दम पर इलेक्शन जीतना चाहती है। भाजपा को जनता पर भरोसा नहीं है।

दिग्विजय ने सवाल उठाये हैं कि कोविड सस्पेक्ट के नाम पर अशासकीय पोस्टल बैलट किसे इश्यू हुए, इस बात की जानकारी हमें अब तक नहीं दी गई, जबकि यह काम 14 अक्टूबर को पूरा हो गया है। उम्मीदवारों को नाम वापसी के ही दिन वोटर लिस्ट मिल जाना चाहिए, लेकिन इसमें देरी की गई। कोविड का ध्यान रखते हुए 80 साल से ज्यादा उम्र के लोग, दिव्यांग और संदिग्ध कोविड लोगों के पोस्टल बैलेट लिए गए। सूची तय हो गई, लेकिन कांग्रेस के उम्मीदवारों को जानकारी आज तक नहीं मिली। पोस्टल बैलेट डालना शुरू हो गया। यह तो निर्धारित प्रक्रिया का पालन ही नहीं हो रहा है। नाम और पते तो दे दीजिए। सिंह ने कहा कि हमने चुनाव आयोग से मिलकर इस बात की मांग की है कि हमें पोस्टल बैलट के नाम, पते दिए जाएं। जिन प्रत्याशियों के खिलाफ मामले दर्ज हैं उन पर कार्रवाई नहीं हो रही है।