मंत्री उषा ठाकुर ने कमलनाथ पर साधा निशाना, कहा मंदिरों से जजिया कर्ज जैसा टैक्स वसूलती थी कमलनाथ सरकार

वहीं मंत्री ठाकुर ने कमलनाथ के मंत्री इमरती देवी पर दिए गए आयटम वाले बयान पर कहा कि किसी भी महिला के लिए अपमानित शब्दों का प्रयोग अनुचित है और वे इसकी कड़ी निंदा करती है।

usha-thakur-minister

इंदौर,आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की पर्यटन, संस्कृति विभाग की मंत्री उषा ठाकुर (Usha Thakur, Minister of Tourism, Culture Department of Madhya Pradesh)  ने मंगलवार को पूर्व सीएम कमलनाथ (Former CM Kamalnath) और 15 महीने की कांग्रेस सरकार(Congress government) पर जमकर हमला बोला। इंदौर (indore) में एक प्रेस कांफ्रेंस के जरिये मंत्री उषा ठाकुर (Minister Usha Thakur) ने पीसीसी चीफ और पूर्व सीएम कमलनाथ को घेरते हुए कहा कि जिस तरह से कमलनाथ (kamalnath) की 15 माह की सरकार में मंदिरों की आमदनी पर 10 प्रतिशत टैक्स लगाया था वो एक तरह से जजिया कर के समान था।

ये भी पढ़े-शिवराज सिंह चौहान का बयान- आखिर कमलनाथ सीधे-सीधे माफी क्यों नहीं मांगते हैं?

जबकि मंदिरों में चढ़ावे के जरिये मिलने वाली राशि का मंदिर के विकास सहित अन्य धार्मिक कार्यो में उपयोग होता है। लेकिन सरकारी खजाने(Government treasury) को भरने के लिए कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) ने एक तरह से जजिया कर लगाकर धार्मिक अखंडता (Religious integrity) को खंड खंड करने का प्रयास किया था।

वही धर्मांतरण के मामले में मंत्री उषा ठाकुर ने कमलनाथ (Kamalnath) पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने ही आदिवासियों (Tribals) से कहा था कि वो खुद को हिन्दू (Hindu) लिखना छोड़ दे, जबकि वो अनादि काल से हिन्दू है। ऐसे में ये कहने का क्या तुक है। उन्होंने सीधे कहा कि कमलनाथ देश की एकता अखंडता को क्षिन्न भिन्न करना चाहते है। इतना ही नहीं मंत्री उषा ठाकुर ने एक बड़ी बात भी इंदौर में कही। उन्होंने कहा कि वफ्फ बोर्ड आर्थिक रूप से मजबूत है।

ये भी पढ़े – इमरती देवी बोली, कमलनाथ और अजय सिंह पर दर्ज हो हरिजन एक्ट का मामला, वरना दे दूंगी जान

बावजूद कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) ने प्रदेश में इमाम और मौलवियों को 5 हजार तक वेतन दिया, जो कि अन्य वर्गों के अधिकारों के छिना जाने जैसा है। वहीं कांग्रेस (Congress) पर हमला बोलते मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सीएए का विरोध करती रही जबकि केंद्र सरकार ये कानून उन लोगो के लिए लाई जो कि पाकिस्तान में सताए जा रहे थे।

इधर, पूर्व सीएम कमलनाथ धार्मिकता को लेकर उषा ठाकुर ने कहा कि वो दिखावा है और उन्हें ये बात समझ में आ गई है। कमलनाथ बीजेपी की तर्ज पर धार्मिक दिखाई देना चाहते है, लेकिन वो कुछ भी करे जनता सब समझ चुकी है और 3 नवंबर को जनता उनको आइना भी दिखा देगी।

इतना ही नहीं मंत्री इमरती देवी (Imarti devi) पर दिए गए आयटम (Item) वाले बयान पर मंत्री उषा ठाकुर (Minister Usha Thakur) ने कहा कि किसी भी महिला के लिए अपमानित शब्दों (Humiliated words) का प्रयोग अनुचित है और वे इसकी कड़ी भर्त्सना करती है। वही सांवेर के विकास को लेकर उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास भावना के साथ सांवेर में विकास कार्य हुए है और वो सब बीजेपी शासन में हुए हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि कोविड के चलते सांवेर के विकास कामो में गति धीमी हुई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here