मतगणना से पहले प्रदेश में सियासी सरगर्मियां तेज, मंगलवार को तय होगा सत्ता का भविष्य

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 3 नवंबर को प्रदेश की 28 सीटों के लिए हुए मतदान (Voting) का कल 10 नवंबर को परिणाम (Result) आने वाले हैं। कल सुबह से ही मतों की गणना शुरू हो जाएगी और शाम होते-होते स्थिति साफ हो जाएगी। कल होने वाली मतगणना से पहले प्रदेश में सियासी सरगर्मियां तेज हो गई है। राजधानी में आज से ही दोनों प्रमुख दल बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) के दिग्गज नेताओं का जमावड़ा लगना शुरू हो गया है। दोनों ही पार्टी के प्रमुख नेता कल होने वाली काउंटिंग को लेकर रणनीति बनाने में लगे हुए है।

दोनों दल कर रहे जीत का दावा
मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) उप-चुनाव (By-election) के परिणाम मंगलवार देर शाम तक आ जाएंगे, दोनों ही दल अपनी-अपनी जीत के दावें कर रही है। दोनों ही पार्टियों का मानना है कि उनकी पार्टी सभी 28 की 28 सीटों पर जीत हासिल करेगी। वहीं एग्जिट पोल पर नज़र डालें तो उसमें भाजपा का पलड़ा भारी लग रहा है। आज तक के एक्सिस माई इंडिया के अनुसार बीजेपी के खाते में 16 से 18 सीटें जाती हुई दिख रही है। वहीं कांग्रेस को सिर्फ 10 से 12 के बीच मे सीटें मिल रही है। उधर भास्कर एग्जिट पोल के मुताबिक भाजपा 14 से 16 सीटें ला रही है तो कांग्रेस 10 से 13 सीटें ला रही है। हालांकि कल यह स्थिति साफ हो जाएगी 28 सीटों पर हुए उप-चुनाव में आखिर जनता ने किसका पलड़ा भारी रखा है।

सुबह 8 बजे से शुरू होगी मतगणना
28 सीटों के लिए कल सुबह 8 बजे से मतगणना शुरू हो जाएगी। ग्वालियर और चंबल अंचल की 16 सीटें काफी ज्यादा संवेदनशील मानी जाती है जिसको देखते हुए चुनाव आयोग ने यहां पर अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती करने का फैसला लिया है, ताकि किसी भी प्रकार की हिंसा न हो। उधर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वेबकास्टिंग के माध्यम से सभी जगह नज़र बनाए रखेंगे। काउंटिंग शुरू होने से पहले सभी 19 जिलों में डाक मतपत्र की गिनती होगी, उसके बाद ईवीएम में दर्ज हुए मतों की गिनती का काम शुरू होगा। वहीं कोरोना को ध्यान में रखते हुए मतगणना स्थल पर सख्ती भी रखी जाएगी।

स्ट्रांग रूम में मतगणना की पूरी तैयारी हो चुकी है। सभी राजनीतिक दलों ने भी कल के लिए अपनी सारी तैयारियां कर ली है। कल सुबह से शुरू होने वाली काउंटिंग के देर शाम तक परिमाण भी आजाएंगे। साथ ही यह भी तय हो जाएगी कि प्रदेश में सत्ता के सिंघासन पर भाजपा बानी रहेगी या सत्ता से बेदखल चल रही कांग्रेस दोबारा सरकार में एंट्री मारेगी।