राप्रसे और पुलिस अधिकारियों के तबादले तत्काल निरस्त हों, कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की शिकायत

कांग्रेस का आरोप, अपने पक्ष में मतदान कराने चहेते अफसरों की पोस्टिंग करा रही बीजेपी, 23 अक्टूबर को किये गए तबादले निरस्त किये जाएं

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (Madhyapradesh) की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (Byelection) के लिए 3 नवम्बर को मतदान (Voting) होना है| उससे पहले राज्य शासन ने 23 अक्टूबर को राज्य प्रशासनिक सेवा (SAS) और राज्य पुलिस सेवा (SPS) के अफसरों के तबादले (Transfer) कर दिए| अब कांग्रेस (Congress) ने इस पर आपत्ति जताते हुए चुनाव आयोग (Election Commission) में शिकायत की है| कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी (BJP) अपने चहेते अफसरों को उपचुनाव वाले क्षेत्रों में पदस्थापना करा रही है|

कांग्रेस द्वारा मुख्या निर्वाचन पदाधिकारी को दिए गए शिकायती पत्र में कहा है कि प्रदेश में 28 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव के कार्यक्रम के अंतर्गत आचार संहिता प्रभावशील है| सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी मध्यप्रदेश में संपन्न हो रहे 28 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव को प्रभावित करने, अपने पक्ष में मतदान कराने के लिए अपने चहेते अधिकारियों की पदस्थापना करा रही है| जबकि प्रदेश में आदर्श आचार संहिता प्रभाव सील है और बिना चुनाव आयोग की स्वीकृति के तबादले प्रतिबंधित है|

कांग्रेस ने 23 अक्टूबर को किये राज्य प्रशासनिक सेवा और राज्य पुलिस सेवा के अफसरों के नाम सहित शिकायत की है| कांग्रेस ने मांग की है कि चुनाव क्षेत्रों के जिलों में किए गए अधिकारियों के स्थानांतरण तत्काल निरस्त किये जाए, जिससे कि विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव का मतदान निष्पक्ष और स्वतंत्र रूप से संपन्न हो सके|

राप्रसे और पुलिस अधिकारियों के तबादले तत्काल निरस्त हों, कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की शिकायत