सिंधिया का हमला- राहुल के कहने पर भी माफी नहीं मांगना अहंकार, ये है कमलनाथ का असली चेहरा

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (rahul gandhi) द्वारा कमलनाथ (kamalnath) के आइटम वाले बयान को आपत्तिजनक बताने के जवाब में कमलनाथ द्वारा माफी नहीं मांगने का ऐलान करने के बाद भाजपा एक बार फिर हमलावर हो गई है। सांसद सिंधिया ने इसे कमलनाथ का अहंकार और असली चेहरा बताया है।

ग्वालियर पहुंचे सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) ने मंगलवार को ग्वालियर पूर्व विधानसभा से पार्टी प्रत्याशी मुन्नालाल गोयल के समर्थन में नाका चंद्रवदनी चौराहे पर आमसभा को संबोधित किया। सिंधिया के निशाने पर कांग्रेस और कमलनाथ ,दिग्विजय सिंह रहे। सिंधिया ने कहा कि छोटे व बड़े भाई ने पूरे मध्य प्रदेश के साथ वादाखिलाफी की है। जिस ग्वालियर-चंबल ने पहली बार 26 सीटें देकर कांग्रेस सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उसी इलाके को विकास से दूर कर दिया। नया दूल्हा कभी शक्ल दिखाने 15 महीनों में ग्वालियर नहीं आया, अब आ रहे हैं क्योंकि उन्हें आपसे वोट चाहिए। लेकिन इन परदेसियों को बोरिया बिस्तर बांधकर वाले भेजना है। सिंधिया ने कहा कि इतिहास गवाह है कि मेरी पूज्य दादी अम्मा महाराज राजमाता विजयाराजे सिंधिया ने विकास नहीं करने वाली डीपी मिश्रा सरकार को गिरा दिया। जब कांग्रेस ने पूज्य पिताजी माधवराव जी को ललकारा तो उन्होंने विकास कांग्रेस बनाकर उसका करारा जबाव दिया। अब विकास और वादाखिलाफी करने वाले छोटे-बड़े भाई यानि कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को रोकने का काम ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किया है। जब कांग्रेस ने जनता से गद्दारी की तो ज्योतिरादित्य सड़क पर उतर गया।अब तो हद ही कर दी कमलनाथ जी ने इमरती देवी को अपशब्द कहकर। एक दलित महिला का अपमान किया। इस अपमान का बदला तीन नवंबर को ग्वालियर-चंबल संभाग का जनता लेगी और कांग्रेस का दरवाजा हमेशा के लिए बंद हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि शिवराज जी ने ग्वालियर पूर्व क्षेत्र के विकास में धन की कमी नहीं आने दी, मुरार नदी प्रोजेक्ट और सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का काम शुरु हो गया और यह तो विकास का ट्रेलर है, पिक्चर अभी बाकी है। भाजपा प्रत्याशी मुन्नालाल गोयल ने विकास के लिए कुर्बानी दी, लेकिन उन्हें गद्दार कहा जा रहा है, जबकि एक पार्षद भी अपनी कुर्सी आसानी से नहीं छोड़ता है। अब विकास के दुश्मनों और प्रगति के बाधक गद्दारों को 3 नवंबर को हमेशा के लिए रवाना करना है।

मीडिया से बात करते हुए सिंधिया ने कहा कि मेरा दायित्व है कि मैं जनता के बीच तथ्यों को लेकर जाऊँ उसे सच्चाई बताऊँ। मेरी जिम्मेदारी है कि मैं जनता के हाथ जोड़कर निवेदन करूँ फिर जनता का जो फैसला होगा वो सर माथे होगा और मुझे विश्वास है कि सभी 28 विधानसभाओं में शिवराज जी के कार्यों के आधार पर कमल के फूल का बटन दबेगा और कमल का फूल ही खिलेगा । राहुल गांधी के हस्तक्षेप और कमलनाथ के बयान की दुर्भाग्यपूर्ण बताने के बाद भी कमलनाथ द्वारा इमरती देवी को आइटम कहने को गलत नहीं मानते हुए माफी मांगने से इंकार करने पर निशाना साधते हुए सिंधिया ने कहा कि जिस पार्टी का पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष एक पूर्व मुख्यमंत्री को कहे कि गलत तो गलत और जवाब में पूर्व मुख्यमंत्री कहे कि मैं गलती मानने को तैयार नहीं तो ये अहंकार नहीं तो क्या है? दिन प्रतिदिन कमलनाथ जी अपना सच्चा चेहरा जनता के बीच रख रहे हैं। एक चेहरा जहाँ महिलाओं का सम्मान नहीं, एक चेहरा जहाँ दलितो का मान नहीं। यही असली चेहरा कांग्रेस और कमलनाथ जी का है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here