प्रगति मैदान में आयोजित होगा ‘5वां इंडियन एरोसोल एक्सपो 2023’

डोमेस्टिक एयरोसोल मार्केट की वैल्यू वर्तमान में लगभग 600 मिलियन अमरीकी डालर है। और 2030 तक 1.3 बिलियन अमरीकी डालर तक पहुंचने की संभावना है।

इंडियन एरोसोल एक्सपो 2023: इंडियन एयरोसोल एक्सपो का 5वां एडिशन – एयरोसोल स्प्रे उद्योग को समर्पित भारत का एकमात्र व्यापार शो – 20 से 21 फरवरी 2023 तक हॉल 2, प्रगति मैदान, दिल्ली में आयोजित किया जाएगा। हर दो साल में आयोजित होने वाला, IAE भारत में एकमात्र मुख्यधारा का मंच है जो एयरोसोल एंड-प्रोडक्ट्स के साथ-साथ इंटरमीडिएट से संबंधित उत्पादों, तकनीकों और मशीनरी को प्रदर्शित करता है।

एयरोसोल उद्योग की संपूर्ण वैल्यू चैन को कवर करते हुए, IAE 2023 कैन, वाल्व, क्लोजर,केमिकल्स और परफ्यूमरी, प्रोपेलेंट, मशीनरी और पैकेजिंग सामग्री और सेवाओं के सप्लायर्स को भारत के प्रमुख एयरोसोल उत्पाद निर्माताओं के सीधे संपर्क में रखता है। IAE 2023 में फार्मास्युटिकल, पर्सनल केयर, होम केयर, ऑटो केयर, पेंट और केमिकल इंडस्ट्रीज के साथ-साथ कई अन्य क्षेत्रों से पैकेजिंग समाधान तलाशने या प्रदर्शकों से निजी लेबल एरोसोल प्राप्त करने के लिए उच्च स्तर के एक्सहिबीटर्स को आकर्षित करने की उम्मीद लगायी जा रही है ।

क्या है इंडियन एरोसोल एक्सपो?

इंडियन एयरोसोल्स एक्सपो 2012 से दृढ़ता से स्थापित एक द्विवार्षिक प्रदर्शनी है जो भारत के एरोसोल उद्योग को प्रदर्शित करती है। यह डोमेस्टिक और अंतरराष्ट्रीय कंपनियों को व्यावसायिक अवसर प्रदान करता है और एयरोसोल उद्योग के इन्नोवेशंस, वैश्विक और घरेलू ट्रेंड्स, तकनीकी पहलुओं आदि पर चर्चा करने के लिए एक मंच प्रदान करता है। यह ब्रांड मालिकों, फिलर्स और सप्लायर्स को मिलने और अधिक अवसरों का पता लगाने के लिए उत्कृष्ट नेटवर्किंग अवसर भी प्रदान करता है

उपयोग के आधार पर, एरोसोल बाजार को पर्सनल केयर, रेजिडेंशियल,औद्योगिक और स्प्रे पेंट में विभाजित किया गया है। एरोसोल आज के जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा हैं औरमैन्युफैक्चरिंग उद्योग में पेंट, लुब्रिकेंट्स, ग्रीस, सफाई की वस्तुओं और मेंटेनेंस स्प्रे के रूप में औद्योगिक उपयोग में आते हैं।

नॉन-इंडस्ट्रियल उत्पादों जैसे एयर फ्रेशनर / इत्र, हेयरस्प्रे, शेविंग जैल, दर्द निवारक स्प्रे, डिओडोरेंट / एंटीपर्सपिरेंट, मेंटेनेंस प्रोडक्ट्स, फर्नीचर पॉलिश, कीटनाशक, ट्रेडमिल लुब्रीकेंट, सफाई प्रोडक्ट, फ्लोर सैनिटाइज़र स्प्रे, ग्लास क्लीनर, कालीन, क्लीनर आदि जैसे उत्पादों के लिए भी एरोसोल महत्वपूर्ण हैं। इन एक्टिविटीज में लगी कंपनियां अपनी विशिष्ट आवश्यकता के लिए मोस्ट कॉस्ट-इफेक्टिव सलूशन प्राप्त करने में सक्षम होंगी।

सरकार द्वारा ‘मेक-इन-इंडिया’ को जोर देने के कारण भारतीय मैन्युफैक्चरिंग एबिलिटीज के विस्तार के साथ-साथ ऑटोमोटिव क्षेत्र में हाल की पर्याप्त वृद्धि ने एयरोसोल बाजार के विकास को गति दी है। ऑटोमोबाइल, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों, मशीनरी और बिजली के उपकरणों के लिए ग्राहकों की बढ़ती मांग के कारण देश में मैन्युफैक्चरिंग उद्योग तेजी से प्रगति कर रहा है।

IAE भारत से जुडी अधिक जानकारी के लिए, कृपया www.iae2023.com इस वेबसाइट पर जाएं।