दर्दनाक! पहले किया 6 साल की मासूम से रेप, फिर हत्या और फिर लीवर निकाल कर खाया, आरोपी गिरफ्तार

निसंतान दंपत्ति ने बच्चे की चाहत में अपने भतीजे से बच्ची को अगवा करवा कर उसका रेप करवाया। रेप के बाद आरोपी ने उसकी हत्या कर उसका पेट फाड़ा और बच्ची का लीवर लेकर अपने चाची चाची के पास पहुंचा। जहां निसंतान दंपत्ति ने बच्ची का लीवर खाया।

कानपुर, डेस्क रिपोर्ट। कानपुर के घाटमपुर कोतवाली में दिवाली रात एक 6 साल की लड़की की हत्या कर दी गई थी और उसके शरीर से उसके फैफड़े निकाल लिए गए थे। अब उसी मामले में एक नया मोड़ सामने आया है। जिसमें बच्ची का कलेजा निकाल कर आरोपी द्वारा खा लिया गया और बाकी के अंग कुत्ते को खिला दिए गए। वहीं पुलिस ने बच्ची की हत्या करने वाले दंपति साहित 4 लोगों को गिरफ्तार किया है।

दरअसल, दंपत्ति की शादी साल 1999 में हुई थी लेकिन उनकी कोई संतान नहीं थी, इसलिए उन्होंने अपने भतीजे से बच्ची की हत्या करा दी। वहीं आरोपी भतीजे ने अपने दोस्त के साथ मिलकर पहले मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और फिर उसका गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। हत्या करने के बाद बच्ची का लीवर निकालकर अपने चाचा चाची को दे दिया, जिसके बाद निसंतान दंपत्ति ने लीवर का कुछ हिस्सा खुद खाया और बाकी का कुत्ते को खिला दिया। इस पूरे घटना को अंजाम देने के लिए दंपत्ति ने अपने भतीजे को ₹500 दिए थे और उसके दोस्तों को हजार रुपए दिए थे।

ये भी पढ़े- लक्ष्मी पूजा के दिन लक्ष्मी का मर्डर, निर्मम हत्या के बाद 6 साल की मासूम के निकाले दोनों फेफड़े

वहीं जांच पड़ताल के दौरान पुलिस ने गांव के अंकुल और बीरन को गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ के दौरान पहले तो दोनों पुलिस को गुमराह करने की कोशिश करते रहे लेकिन आखिरकार उन्होंने सच बता दिया। आरोपी अंकुल ने बताया कि उसके चाचा परशुराम ने उसे बताया कि उसने एक किताब में पढ़ा है कि अगर किसी बच्ची का लीवर वह अपनी पत्नी के साथ खाएगा तो उसे संतान की प्राप्ति होगी। इसी के लिए परशुराम ने अंकुल को कुछ पैसे भी दिए थे।

वारदात को अंजाम देने के लिए आरोपी अंकुल ने पहले अपने दोस्त वीरन के साथ शराब पी और फिर पड़ोस में रहने वाली एक बच्ची को पटाखा दिलाने का कहकर घर से ले गया। जिसके बाद जंगल में ले जाकर पहले तो उसके साथ दुष्कर्म किया और फिर उसका गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के पश्चात उसका पेट फाड़कर अंदर से सारे अंग निकाल लिए और अपने चाचा परशुराम को जा कर दे दिए। अंकुल ने बताया कि उसने परशुराम और अपनी चाची के साथ मिलकर बच्ची का लीवर खाया और बाकी अंग कुत्ते को खिला दिए। उसके चाचा परशुराम ने उसे इस काम के लिए ₹500 दिए थे और उसके दोस्त बीरन कुरील को 1 हजार रुपए दिए थे।

वही पूरी वारदात को लेकर ग्रामीण एसपी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी उसी गांव का रहने वाला है। साल 1999 में परशुराम की शादी सुनैना से हुई थी पर उनकी कोई संतान नहीं थी । संतान पाने के लिए उसने अपने भतीजे को बच्ची की हत्या कर लीवर लाने के लिए तैयार किया और इस पूरी वारदात की जानकारी आरोपी परशुराम ने अपनी पत्नी को भी दी थी। एसपी ने बताया कि दोनों को हिरासत में ले लिया गया है और पूछताछ की जा रही है। वही अंकुल वीरन कुरील को हिरासत में लेकर जेल भेज दिया गया है। इस पूरी घटना को संज्ञान में लेते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अधिकारियों को आरोपियों को गिरफ्तार कर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे जिसके फल स्वरुप पुलिस ने तेजी दिखाते हुए घटना का खुलासा कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here