होली के बाद कर्मचारियों को मिल सकती है अच्छी खबर, 50 हजार तक सैलरी में वृद्धि संभव, क्या डीए एरियर पर भी होगा फैसला?

वर्तमान में केन्द्रीय कर्मचारियों का फिटमेंट फैक्टर 2.57 फीसदी है और इसी आधार पर सैलरी दी जाती है। अभी तक इसे छठवें वेतन आयोग के तहत दिया जाता है और कर्मचारी इसे 7वें वेतन आयोग के तहत इसे बढ़ाए जाने की मांग कर रहे है, जिसके तहत फिटमेंट फैक्टर 3.68 फीसदी करने की मांग की जा रही है।

Central Employee Salary Hike 2023 : केन्द्रीय कर्मचारियों के लिए ताजा अपडेट है। होली के बाद महंगाई भत्ते में वृद्धि के ऐलान के साथ कर्मचारियों को 2 और बकाया डीए एरियर और फिटमेंट फैक्टर की खुशखबरी मिल सकती है। मीडिया रिपोर्टस होली के बाद आगामी चुनावों को देखते हुए केन्द्र की मोदी सरकार 18 महीने के बकाया डीए एरियर पर विचार कर सकती है। वही फिटमेंट फैक्टर में संशोधन किया जा सकता है, जिससे कर्मचारियों की सैलरी में बड़ा उछाल देखने को मिलेगा। हालांकि अभी इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

3.68 फीसदी बढ़ाने की मांग

दरअसल, इस साल कई राज्यों में विधानसभा चुनाव होने है और अगले साल लोकसभा चुनाव होंगे, ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि 2023 में मोदी सरकार कर्मचारियों को लेकर बड़े ऐलान कर सकते है।इसमें महंगाई भत्ता, 18 महीने का बकाया डीए एरियर और फिटमेंट फैक्टर समेत अन्य भत्ते शामिल होंगे। वर्तमान में केन्द्रीय कर्मचारियों का फिटमेंट फैक्टर 2.57 फीसदी है और इसी आधार पर सैलरी दी जाती है। अभी तक इसे छठवें वेतन आयोग के तहत दिया जाता है और कर्मचारी इसे 7वें वेतन आयोग के तहत इसे बढ़ाए जाने की मांग कर रहे है, जिसके तहत फिटमेंट फैक्टर 3.68 फीसदी करने की मांग की जा रही है।

बेसिक सैलरी बढ़कर होगी 26000

संभावना जताई जा रही है कि आगामी चुनावों से पहले मोदी सरकार फिटमेंट फैक्टर को रिवाइज कर सकती है, इसे 3.00 या 3.68 फीसदी तक बढ़ाया जा सकता है, इससे कर्मचारियों की सैलरी में ढ़ाई गुना वृद्धि होगी यानि बेसिक सैलरी 18000 से बढ़कर सीधे 21000 या 26000 हो जाएगी। माना जा रहा है कि होली के बाद केंद्र सरकार 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने पर फैसला ले सकता है और नए सरकार बनने पर 2026 से इसे लागू किया जा सकता है।

वेतन में 50000 तक मिलेगा लाभ

अगर सरकार कर्मचारियों के फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने की मांग पर विचार करती है, कर्मचारियों की मिनिमम सैलरी 18,000 रुपये से बढ़कर 26,000 रुपये हो जाएगी। उदाहरण के तौर पर, यदि किसी केंद्रीय कर्मचारी की बेसिक सैलरी 18,000 रुपए है, तो भत्तों को छोड़कर उसकी सैलरी 18,000 X 2.57= 46,260 रुपए का लाभ होगा। 3.68 होने पर सैलरी 95,680 रुपये (26000 X 3.68 = 95,680) हो जाएगी यानि सैलरी में 49,420 रुपए लाभ मिलेगा। 3 गुना फिटमेंट फैक्टर होने पर सैलरी 21000 X 3 = 63,000 रुपये होगी। इसका लाभ 52 लाख कर्मचारियों को होगा। इससे पहले सरकार ने 2016 में फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाया था और इसी साल से 7th pay commission को भी लागू किया गया था।

क्या 18 महीने के डीए एरियर का इंतजार होगा खत्म?

ताजा मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो  कर्मचारियों की मांग और बढ़ते जबाव के चलते आगामी चुनावों से पहले केन्द्र की मोदी सरकार जुलाई 2020 से जनवरी 2021  यानि 18 महीने के बकाया डीए एरियर पर विचार कर सकती है, चुंकी लंबे समय से कर्मचारी इसे देने की मांग कर रही है, वे इस संबंध में कई बार सरकार को पत्र भी लिख चुके है। वही 5 राज्यों में ओपीएस बहाली होने के बाद देशभर में पुरानी पेंशन योजना की मांग उठ रही है, ऐसे में माना जा रहा है कि सरकार एरियर पर विचार कर सकती है। अगर सहमति बनती है तो 50 हजार से 2 लाख तक का एरियर मिल सकता है, हालांकि अभी तक कोई अधिकारिक बयान सामने नहीं आया है और ना ही पुष्टि की गई है।

50 हजार से 2 लाख तक बनेगा एरियर

अगर फैसला होता है तो डीए एरियर का पैसा कर्मचारियों को उनकी सैलरी बैंड के अनुसार मिलेगा। लेवल-13 (7TH CPC बेसिक पे-स्केल 1,23,100 रुपए से 2,15,900 रुपए) या लेवल-14 (पे-स्केल) के लिए कैलकुलेशन की जाएगी तो एक कर्मचारी के हाथ में महंगाई भत्ता एरियर का 1,44,200 रुपए से 2,18,200 रुपए तक आ सकता है।वही लेवल-1 के कर्मचारियों का DA एरियर 11,880 रुपए से लेकर 37,554 रुपए के बीच बनता है।यह आंकड़े उदाहरण के तौर पर दर्शाए गए है, इसमें बदलाव भी हो सकता है।