दशहरे से पहले कर्मचारियों को मिल सकती है गुड न्यूज, इतने प्रतिशत DA बढ़ना तय! एरियर-भत्तों का भी लाभ, AICPI इंडेक्स के नए नंबर भी जारी

Central Employee DA Hike 2023 : आज से अक्टूबर का महीना लग गया है और उम्मीद है कि केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स को इसी महीने में डीए का तोहफा मिल सकता है। ताजा मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नवरात्रि-दशहरे के बीच केन्द्र की मोदी सरकार कर्मचारियों-पेंशनरों के महंगाई भत्ते और महंगाई राहत में वृद्धि का ऐलान कर सकती है, वही अक्टूबर की सैलरी में बढ़े हुए महंगाई भत्ते (डीए) और एरियर्स का लाभ दिया जा सकता है, जो नंवबर में मिलेगी। हालांकि अभी अधिकारिक पुष्टि होना बाकी है।इसी बीच श्रम एवं रोज़गार मंत्रालय ने अगस्त 2023 के AICPI Index का डाटा भी जारी कर दिया है। AICPI इंडेक्स के अगस्त के आंकड़ों में 0.5 अंक की गिरावट दर्ज की गई है,आंकड़ा 139.2 पर पहुंच गया है।

AICPI इंडेक्स से तय होता है महंगाई भत्ता

दरअसल, केन्द्र सरकार द्वारा साल में दो बार जनवरी और जुलाई में केन्द्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता और महंगाई राहत की दरों में संशोधन किया जाता है,जो की AICPI इंडेक्स के छमाही के आंकड़ों पर निर्भर करता है। जनवरी के बाद अब जुलाई 2023 की नई दरें जारी की जानी है। AICPI इंडेक्स के जनवरी से जून 2023 के आंकड़ों के मुताबिक डीए में 3% की वृद्धि होना तय है। वर्तमान में 42% महंगाई भत्ते का लाभ मिल रहा है , जो वृद्धि के बाद 45% होने का अंनुमान है। वही अगस्त AICPI इंडेक्स के आंकड़े में जुलाई की तुलना में गिरावट आई है, जिसके बाद अंक 139.7 से गिरकर 139.3 पहुंच गया है। हालांकि यह आंकड़े अगले डीए पर लागू होंगे, जो जनवरी में बढ़ेगा। अभी सितंबर से दिसंबर तक के अंक आना भी बाकी है।

डीए में 3% वृद्धि तय, जुलाई से लागू होंगी नई दरें

  1. ताजा मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, राज्यों के विधानसभा चुनाव से पहले केन्द्र की मोदी सरकार अक्टूबर में कर्मचारियों के डीए में 3% वृद्धि का ऐलान कर सकती है, इस संंबंध में वित्त विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी है,  जिसे जल्द कैबिनेट बैठक में रखा जा सकता है।यहां से मंजूरी मिलने के बाद केन्द्रीय वित्त विभाग 45% महंगाई भत्ते के संबंध में आदेश जारी करेगा। चुंकी इसे 1 जुलाई 2023 से लागू किया जाएगा, ऐसे में कर्मचारियों-पेंशनरों को 3 महीने जुलाई अगस्त और सितंबर का एरियर भी मिलेगा।वही अन्य भत्तों में भी इजाफा होना तय है।
  2. इससे सैलरी में भी बंपर उछाल देखने को मिलेगा।वही पेंशनरों की पेंशन में भी बड़ी बढ़ोत्तरी होगी।इससे 47.58 लाख कर्मचारी और लगभग 69.76 लाख पेंशनभोगी लाभान्वित होंगे ।
  3. उदाहरण के तौर पर, अगर किसी कर्मचारी का बेसिक-पे 18,000 रुपये है और उसे अभी 42 फीसदी की दर से महंगाई भत्ता मिलता है, तो फिर ये 7,560 रुपये बनता है, जो 45% होने पर बढ़कर 8,100 रुपये हो जाएगा। यानी कर्मचारियों को मिलने वाली सैलरी में सीधे 540 रुपये बढ़ जाएंगे, वही अधिकतम बेसिक-पे 56,900 रुपये पर यह 25,605 रुपये हो जाएगा।

ऐसे होती है महंगाई भत्ते की गणना

  • केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए डीए इस आधार पर कैलकुलेट होता है- {पिछले 12 महीनों का औसत ऑल इंडिया कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स ( बेस ईयर-2001=100-115.76/115.76}X100. सेंट्रल पब्लिक सेक्टर के कर्मचारियों के लिए फॉर्मूला इस तरह है- { 3 महीनों का ऑल इंडिया कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स का औसत ( बेस ईयर-2001=100-126.33/126.33}X100।
  • दूसरे शब्दों में कहें तो महंगाई भत्ते का कैलकुलेशन डीए का मौजूदा रेट और बेसिक सैलरी में गुणा के आधार पर महंगाई भत्ते की रकम निकाली जाती है। उदाहरण के तौर पर यदि आपकी बेसिक सैलरी 18 हजार रुपये है और डीए 45 फीसदी है तो आपका डीए फाॅर्मूला (45 x 29200) / 100 होगा।इसी तरह पेंशनर्स के लिए महंगाई राहत को भी कैलकुलेट किया जाता है।

अगस्त 2023 एआईसीपीआई इंडेक्स के आंकड़े 

  • श्रम ब्यूरो, श्रम एवं रोज़गार मंत्रालय से संबंधित कार्यालय द्वारा हर महीने औद्योगिक श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक का संकलन सम्पूर्ण देश में फैले हुए 88 महत्वपूर्ण औद्योगिक केंद्रों के 317 बाजारों से एकत्रित खुदरा मूल्यों के आधार पर किया जाता है। सूचकांक का संकलन 88 औद्योगिक केंद्रों एवं अखिल भारत के लिए किया जाता है और आगामी महीने के अंतिम कार्यदिवस पर जारी किया जाता है। अगस्त, 2023 के लिए सूचकांक इस प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जारी किया जा रहा है।
  • अगस्त 2023 का अखिल भारत उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (औद्योगिक श्रमिक) 0.5 अंक घटकर 139.2 (एक सौ उनतीस दशमलव दो) अंकों के स्तर पर संकलित हुआ। सूचकांक में पिछले माह की तुलना में 0.36 प्रतिशत कमी रही जबकि एक वर्ष पूर्व इसी महीने के बीच 0.23 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई थी।सूचकांक में गिरावट में अधिकतम योगदान खाद्य एवं पेय समूह का रहा जिसने कुल बदलाव को 0.71 बिन्दु प्रतिशतता से प्रभावित किया।

About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News