IMD Alert : 13 नवंबर से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय, 16 नवंबर को बनेगा निम्न दबाव, 7 राज्य में बारिश का ऑरेंज अलर्ट, उत्तर भारत में तापमान में गिरावट

मौसम में पल-पल बदलाव देखने को मिल रहा है। मौसम विभाग द्वारा एक तरफ उत्तर भारत में जहां तापमान में गिरावट की चेतावनी जारी की गई है। वहीं दक्षिणी राज्यों में भारी बारिश का सिलसिला जारी रहेगा। इसके लिए ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया गया है।

IMD Alert

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देशभर में मौसम (aaj ka mausam) का मिजाज तेजी से बदल रहा है। उत्तर भारत में ठंड की दस्तक शुरू हो गई है। दक्षिण भारत के राज्य में भारी बारिश का सिलसिला जारी है। IMD Alert के अनुसार फिलहाल बारिश से राहत की उम्मीद ना के बराबर है। मौसम विभाग ने आज 13 नवंबर को तमिलनाडु आंध्रप्रदेश केरल में मूसलाधार बारिश का रेड ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।

वहीं दिल्ली एनसीआर और उत्तर प्रदेश में प्रदूषण के बीच कोहरे ने दस्तक दे दी है। तापमान में गिरावट का दौर जारी जारी है। दिल्ली-एनसीआर और उत्तर प्रदेश में प्रदूषण में गिरावट रिकॉर्ड की गई है। सुबह के वक्त हल्के कोहरे देखने को मिल सकते हैं। पहाड़ों पर हल्की बर्फबारी से मौसम में बदलाव आया है। तमिलनाडु में भी भारी बारिश का दौर जारी रहने की मौसम विभाग ने उम्मीद जताई गई है। राष्ट्रीय राजधानी में 15 के बाद मौसम बदलने के आसार हैं।

13 नवंबर को दिल्ली में न्यूनतम तापमान 13 और अधिकतम तापमान 29 डिग्री थी। सुबह के वक्त हल्का कोहरा और आसमान में धुंध देखने को मिल रहा है। दिल्ली के तापमान में गिरावट के आसार हैं। सुबह के वक्त हल्का कोहरा देखने को मिलेगा। आसमान ने बादलों का आवागमन जारी है। बादलों से बारिश देखने को मिलेगी।

उत्तर प्रदेश के कई जिलों में आज बारिश देखने को मिल सकती है। मौसम विभाग ने बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है। विभाग के अनुसार यूपी के कई जिलों में बारिश देखने को मिलेगी। वहीं हरियाणा के 7 जिले में भी बारिश की संभावना मौसम विभाग द्वारा जताई गई है। पारा गिरने का दौर जारी रहेगा। अगले 2 घंटे में पानीपत गन्नौर बड़ौत बागपत नंदगांव इगलास राया मथुरा जलेसर और यूपी के अलग-अलग इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिल सकती है।

Read More : ऊर्जा मंत्री की विधानसभा में प्रशासन ने हटाया अतिक्रमण, विरोध कर रहे कांग्रेस नेता को लिया हिरासत में, लोगों ने कार्यवाही पर उठाये सवाल

बिहार में मौसम में तेजी से बदलाव हो रहे हैं सर्दी तेज हो गई है। वहीं पछुआ हवा और उत्तरी पछुआ हवाओं की रफ्तार बढ़ने लगी है। जिसका असर राज्य के अधिकतर शहरों के दिन तापमान पर भी साफ साफ नजर आएगा। 22 जिले में अधिकतम तापमान में गिरावट है। धुंध की स्थिति 9:00 बजे के आसपास तक दिखने लगेगी।

गया जिला राज्य भर में सबसे ठंडा रिकॉर्ड किया गया है। 24 घंटे में पटना का अधिकतम तापमान 2 डिग्री सेल्सियस नीचे रिकॉर्ड किया गया है। सबसे ज्यादा गिरावट मुजफ्फरपुर में दर्ज किए गए हैं। शेखुपुरा में सबसे अधिक तापमान रिकॉर्ड किया गया है। मुजफ्फरपुर में 1.2 डिग्री, सुपौल में 1.4 डिग्री, फारबिसगंज में 2 डिग्री, पूर्णिया में 1.6 डिग्री और अररिया में 2.2 डिग्री अधिक तापमान में गिरावट देखी गई है।

वही पर्वतों पर बर्फबारी जारी रहेगी। दरअसल लेह लद्दाख, जम्मू कश्मीर सहित उत्तराखंड और हिमाचल में 2 दिन बर्फ बारिश व बर्फबारी के आसार जताए गए हैं। हालांकि 15 से मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा। रविवार और सोमवार को मौसम खराब बने रहने का पूर्वानुमान जताया गया।

उच्च पर्वतीय क्षेत्र किन्नौर और लाहौल स्पीति के कई क्षेत्र में बर्फबारी का येलो अलर्ट जारी किया गया है। साथ ही शिमला, सोलनz सिरमौर, मंडी, कुल्लू, चंबा, उना, बिलासपुर, हमीरपुर और कांगड़ा में भी बारिश की संभावना जताई गई है। शुक्रवार रात को न्यूनतम तापमान माइनस 6.5, कुकुम सेरी में -4.6, कल्पा में -1.1, मनाली में 1.8 सहित शिमला में 7.8 रिकॉर्ड किया गया है।

मध्यप्रदेश में ठंडक के एहसास बढ़ने लगे हैं कुछ हिस्सों में बारिश होने के बाद तापमान में गिरावट आई है। जिन इलाकों में लोग बारिश के कारण परेशान थे। वहां धीरे-धीरे ठंडी बढ़ने लगी है। मध्यप्रदेश में नौगांव को सबसे ठंडा रिकॉर्ड किया गया है यहां तापमान 11.7 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया जबकि रायसेन उमरिया ग्वालियर दतिया पचमढ़ी खरगोन में भी न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस पहुंचा है। राजधानी भोपाल में न्यूनतम तापमान 14.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। वहीं इंदौर में 17 जबलपुर में 14 और ग्वालियर में 13.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है।

मौसम विभाग की माने तो कर्नाटक लक्ष्यद्वीप तमिलनाडु के कुछ क्षेत्र सहित आंध्र प्रदेश रॉयल सीमा में भारी बारिश हो सकती है। कर्नाटक में हल्की बारिश के साथ है। एक दो स्थान पर मध्यम बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। ताजा पश्चिमी विक्षोभ 13 नवंबर से पश्चिम हिमालय के पास पहुंचेगा। वही 16 नवंबर के आसपास दक्षिण बंगाल की खाड़ी के आस पास एक कम दबाव का क्षेत्र निर्मित होने की संभावना भी जताई गई है।